Recent Posts

Anjane Men Call Girl Ki Chudai – Part 1

Hi friends, Desitales ki sabhi readers ko mera salam namaste. Mera nam abinash hai,main desitales ka bahat bada fan hun.Main karib 6 sal se Desitales mein desi sex story padhraha hun.Aaj main aap logon ke sath mera real sex story share karne jaraha hun. Pehle main aap logon ko mere bare me bata deta hun,mera age 23 hai,main odisha se hun, height 5.4ft hai, fair, avg health.Mera hatiyar ka size 5 inch aur 2.5 inch mota hai.


Aab story pe atehain.Yemere pehla story hai koi mistek hoto maf kar diji ye ga.Ye ghatna ajse karib 3 sal pehle ki hain tab main engg ki third year main tha.Hum 5 friends ek room rent pe leke rehte the,hamare room ke aspas koi nahin rehte the,sabhi long dur pe rehte the karib 300m ki duri pe. Hamare gharke najdik ek ngo tha, wahan sirf 5 log kam karte the,unmese 2 ladkiyan thi ek married aur ek unmarried.Mera sex story ki heroine ki name Pinki hai,age tabhi 25 hogi,figure 34-28-36 ek sexy bomb kisi ki bhi niyat kharab karne wali, gori rang ki.


Wo hamesa hamre hi ghar ki samnese office jati thi,use dekh ke hamare niyat kharab ho jata tha.Room main hum sabh hamesa usiki bare main bat karte the.Aise hi din bit te gaya,kabhi kabhi wo mujhe dekhe chotisi smils detithi bas itnahi aur kuch nahi ho pata tha main ne kabhi use bat nahi kiyatha lekin uski nam ki hamesa muth marta tha aur soch ta tha ki kabhi isse chod ne ko milega.


Phi use din aya jab mera tammana pura hua. Ye august 2012 ki bat hai,mere sabhi room mate ghar chle gaye the thodi prblm ki wajha se main nahi japaya. Sawan ki mahina hai to main jyada tar gharse nahi nikal ta tha,to thoda ngo ke taraf ghum atatha usedekh ne keliye.Phir ek din mera nasib khul gaya.Do paher se barish ho rahi thi sham tak chal raha tha,4 baj chu katha barish tham ne ka nam hi nahi le rahi thi to main bore hogaya tha,socha thoda bahar baith ke barish ka maja lun


To main kursi leke baranda main baith gaya. Kuch samay bad mera sapnoki rani ati hui dikhaidi,woo ek chatri pakad ke arahithi main khus ho gaya,achanak ek jorki hawa ki bajah se uski chatri udgayi wo barish main bhig gayi to doude ke mere gharke pass agayi aur mere se dhodi hi duri pe khadi hogayi.Barish main bhig ne ke karan uski andar ki bra thodi dikh radithi merato lund khada hogaya, mera lond half pant ki andar se bahar ane ki kosis kar raha tha,main ne thodi cntl karliya. Hawa ki bajahse usko thand lag rahithi,main ne himmat karke use pucha aaj akeli ho(wo hamesa dusri aurat ke sath jati thi),usne kaha thodi kam tha to late hogayi sab chale gaye hain.


Main ne kaha andar ajao nahi to aur bhig jao gi. Wo kuch soch ne lagi phir thodi der bad andar agayi. Main uske piche chalraha tha,useki machal ti gaand ko dekh ke man ho raha tha abhi pakad ke chod dun.Per dar rahithi.Dono andar agaye.Main use nam pucha to usne pinki batayi.


Main ne baith ne ko kaha aur kursi di main khada ho gaya uske samne,mera tana hua lund usne sayad dekh lithi to thodi sexy smile de rahi thi.Maine kaha bhig gayi ho to towel diya aur pochne ko kaha.Usne towel leke apni sar pochne lagi,dosto kya bataun yaro uski khuli hui julphe dekh ke to main hairan hogaya kya kayamat lag rahithi,mujhse cntl nahi ho rahatha.


Phir maine kaha tumhari kapde gili hogayi hai change karlo nahito thand lag jayegi par usne mana kiya boli main chali jaungi,to maine kaha baris jorse horahi hai bhig jaogi thodi de ruk jao thodi ruke gi to chali jana,usne thodi der kuch sochi phir haan me sar hilayi phir maine kaha change karlo


Usebhi than lag rahithi to haan karli aur puchi main kya pehnungi to maine kaha mere kapde pehenlena to maine aapna ek half pant aur t-shirt diya aur wo bathroom chali gayi,main uskeliye chai banana lag gaya.


Kuch der baad wo bathroom se ayi aur room me chaligayi,main piche piche room main agaya jaise hi room me entry kiya to main hairan ho gaya.Wo to ek aapsara lag rahithi jaise hi abhi swarg se ayi ho,t shirt main se uski boobs khil ke dikh rahi thi


Jaise abhi shirt fad ke bahar ajayenge sayad usne bra nahi pehni thi,kuch der mera munh khula reh gaya to usne pucha kya hua kya dekh rahe ho,tabhi mujhe hos aya maine kaha kuch nahi to usne thodi si smile di sayad use pata chal gaya tha,main use chai diya aur dono baten karne lage.Per mera to dhyan uske boobs ke upar tha usne kai bar mujhe pakad bhiliya.Kuch der baat karne ke baat usne pucha koi dikhai nahi de rahi hai maine kaha koi nahi hai sab ghar gaye hain aur hum baten karne lage.


Main uske boobs ko phirse ghur ne laga to usne puchliya ki kya dekh rahe ho main thoda daar gaya phir pucha to maine himmat kar ke kaha tumhe to wo thodisi sexy smile di aur kaha kyun maine ek smiledete huye kaha itni khubsurat ho koibhi tumhe hi dekhe ga,to usne apni sar sharm se nihe karli aur hum baaten karne lage. Hum aapas main kaphi gulmil gaye the


Tabhi usne achanak puch liya ki kya main itni khubsurat hun tumhari gf se bhi jyada, main ne kaha haan lekin mera koi gf nahi hai maine pucha tumhari koi bf hai kya to usne kaha nahi hai,aise hi baten karte rahe,to anjane me maine apna ek hat uske thigh pe rakhdiya to usne kuch nahi kaha aur smle dene lagi maine socha ek acha mouka hai kyun na fayede uthaya jaye


To maine haat se pant ki upar se jaangh ko sehlane laga sayad usko maja arahi thi to aankhe band karli,maine ise achi mouka samajhke uski lips pe chumna suru kardia to usne mujhe piche dhakel diya main to dar gaya ki aab kya hoga sayad use bura laga hoga to maine aap na sar niche kar liya lekin sayad takdir me kuch aur likha tha wo age ayi aur mere sarko pakad ke mere lips ko chum ne lagi main to hairan ho gaya ki ye kya ho raha hai.


Phir maine bhi sath dene laga,kya bataun yaro kya soft lips the uski makhan ki tarah main to chumta hi raha mm mmm mmm


Phir hum ne apno apni tounge ek dusre ke muhpe leke chusne lage,uski thuk ki taste mast thi,aise hi 15 min tak hum ek dusre ko chum te rahe phir alag huya lekin najar nahi mila paa rahethe. Usne kaha achi nahi lagi kya,maine kaha pehle sirf bf main dekha tha aaj pehli bar kisi ko kiss kiyahun, itna sunte hi phir se usne mujh par tut pada.


Hum ek dus re se kiss kar rahe the,maine shirt ke uparse boobs ko dabane laga sayad pehli baar tha to jorse daba diya to uuuuffff ki awaj nikal gayi uski muh se kaha dhire karo dard horaha hai,maine kaha sry pehli bar hai.


Phirse hum kiss kar ne lag gaye aur main boobs daba raha tha,kiss ki bajah se awaj nahi ni kal rahi thi munh se sirf mmhhh mmhhh uuufff ki awaj arahi thi.


Phir maune aap na shirt ke andar ghusa diya aur dabane laga,itna bada boobs tha ki mare ek haath men pakad nahi paraha tha wo aaahhhh aaahhhh uuuuffff ki awaj nikal rahi thi.


Thodi der bad maine uski shirt khol di wo abhi mere sam ne adhi nude thi aur uske dono bade watermelon jaisi boobs mere samne thi usne andar bra nahi pehni thi.


Main to dekh ke hairan ho gaya itna bada boobs sirf bf men dekha tha per abhi wo mere sam ne the,itni gori gori boobs the man ho rahatha abhi chaba ke kha jaun,mere dabane ke bajase dono boobs lal pad gaye tha.


Phir maine boobs ko chusna suru kiya wo to jaise pagal ho rahi rhi mre balon men hath dal ke sehla rahithi aur jor jor se aaahh uuuff maaa uuuiiimaaa ki awaje nikal rahi thi. Awaz sun ke mujhe bhi josh araha tha aur jorse chus raha tha,usne kaha sab ras aj nikal doge kya janu.


Maine kaha tumhari bachhe keliye bhi nahi rakhun ga sab pijaunga aur chus ne laga.Maine ek hath pant ke andar dalke uski chut ko panty ki upar se sehla ne laga.Uski panty gili ho gayithi. Phir maine ekhi jhtke men uski panty nikal di blue clr ki panty men kya lag rahithimuski panty gili ho gayi thi saf dikh rahi thi.


Ageki story aap logon ko baad main bataunga aap ki response k bad,ki kaise maine jindegi ki pehli sex ki aur kaise barish men main ne use choda.Main aap sabhi ka response ka wait kar rahahun mera e mail id hai:rashmicool14@gmail.com.Agar kisi ladki bhabi housewifes ko sex kar na ho to msg me pura safety aur secret rahega.


The post Anjane Men Call Girl Ki Chudai – Part 1 appeared first on Desi Tales.


hindi sex story |chodan | hindi sex stories | hindisexstories | antarvasana | Antervasna | hindi sexy stories | hindi sex story | sex stories in hindi | antarvasana in hindi | indian sex stories | sex stories | free sex


#1, #Anjane, #Antarvasana, #AntarvasanaVideos, #Call, #Chudai, #FreeSex, #Girl, #Ki, #Men, #Part, #SexVideo, #SexVideosIndian 1, Anjane, antarvasana, antarvasana videos, Call, Chudai, free sex, girl, ki, Men, Part, sex video, sex videos indian
Thursday, February 23, 2017

बड़ा बढ़िया चोदते हो, बाबू जी ?

मेरा नाम है कम्मो , मैं इस समय 22 साल की हो गयी हूँ , जवानी छा गयी हैं मुझ पर खुदा कसम बड़ी खूबसूरत हो गयी हूँ मैं आगे से भी और पीछे से भी , मेरी माँ ने एक दिन कहा कम्मो अब तुम ताहिर साहेब का काम पकड़ लो , मुझे दो घर और मिल गए है . ताहिर साहेब अच्छा पैसा देते है और अकेले ही रहते है . इसलिए उनका काम नहीं छोड़ना है ? मैं जब पहली बार उनसे मिली तो उन्हें दिल दे बैठी ? मैंने मन में कहा वाह क्या मस्त नौजवान आदमी है हट्टा कट्टा गोरा चिट्टा ? इसका लौड़ा भी इसी तरह हट्टा कट्टा होगा ? मैंने पहले दिन ही ठान लिया की मैं एक न एक दिन इसको अपने बस में कर लूंगी .

एक दिन ताहिर साहेब बाथ रूम ने नहाने चले गए . मैं कमरे में झाडू लगा रही थी . मैंने देखा की बेड पर तौलिया पड़ा है . मैं समझ गयी की वह तौलिया बाहर ही भूल गया है और इसे उठाने जरुर बाहर आएगा . मैं छुप छुप कर झाडू लगाने लगी और उसके आने का इंतज़ार करने लगी . थोड़ी में वह बाहर तौलिया उठाने के लिए निकला . वह बिलकुल नंगा था . उसका नहाया हुआ लण्ड मैंने देख लिया . लम्बा लटकता हुआ लण्ड बड़ा खूबसूरत लग रहा था . लण्ड का सुपाडा एकदम खुला हुआ था . लण्ड से पानी टपक रहा था . उसे देखते ही मेरे तन बदन में आग लग गयी . मेरी जहाँ एक तरफ चूंचियाँ मचल उठी वही दूसरी तरफ मेरी चूत भी चुलबुलाने लगी . मेरा मन हुआ की मैं बाथ में घुस कर अभी उसका लण्ड पकड़ लूं पर मैं रुक गयी .

उसके बाद तो उसका लौड़ा मेरी आँखों में बस गया . मैं सोते जागते लेटे बैठते बस उसके लण्ड के बारे में ही सोचा करती थी .वास्तव में मैं जब आँख बंद करती तो मेरे सामने वही लटकता हुआ लण्ड दिखाई पड़ता . मैं सोचने लगी हाय अल्ला, वह कौन सा दिन होगा जब उसका लण्ड मेरे हाथ में आएगा ? मैं हर दिन दुआ करती की आज कुछ कर्शिमा हो जाये मुझे लण्ड पकड़ने को मिल जाये ? इधर मैं भी हर दिन बन ठन कर जाने लगी . गहरे गले का ब्लाउज पहनने लगी . अपनी चूंचियाँ खूब दिखा दिखा कर काम करने लगी . झुक कर साहेब को चाय नास्ता देती . तब मैंने देखा की साहेब की नज़र मेरी चूंचियों पर अन्दर तक पड़ जाती है . एक दिन उसने कहा कम्मो, तुम बहुत अछि लड़की हो . बड़ी खूबसूरत हो ? मैंने कहा आप भी तो बहुत अच्छे है बाबू जी ? मैं उस दिन से उसे तिरछी और सेक्सी नज़र से देखने लगी .

एक दिन मैंने एक चाल चली . मैं मोबाईल पर अपने सहेली से बात करने लगी . हां खुल कर और बिंदास बात करने लगी . मैं भूल गयी की मैं मालिक के घर पर हूँ मैं अपनी तरफ की बातें आपको सुना रही हूँ . मैंने कहा हां रूपा बोल …. क्या हुआ बहन चोद ? …… अच्छा वो था …….. तू चिंता न कर उसकी तो मैं माँ चोदूंगी एक दिन . …..? हां हां ठीक है …….? अगर न हो तो बताना मैं उसकी अच्छी तरह मारूंगी गांड ………? उसकी माँ का भोषडा ………. ? और सब ठीक है न ? …… हाय अल्ला, क्या कह रही हो उसका भोषडी वाले का इतना मोटा लण्ड . …….? अच्छा उसके देवर का भी लण्ड ……….? मैं ये बातें एक कोने में खड़े हो कर कर रही थी लेकिन मुझे अपने मुह की गालियाँ उसे सुनानी थी . मैं जानती हूँ की लडको को लड़कियों के मुह से गालियाँ सुन कर बड़ा मज़ा आता है हां गालियाँ उसके लिए न हो तो ? मेरी जब बात ख़तम हुई तो मैंने देखा की बाबू जी मेरे पास खड़े है ? मैंने कहा बाबू जी मुझे माफ़ करना आगे से ऐसी गलती नहीं होगी ? मैंने बड़ा गन्दा गन्दा बोला है ? क्या करती मेरी सहेली ने मुझे गुस्सा दिला दिया ? वह मुस्करा कर बोला कम्मो तुम गुस्से में बड़ी हसीं लगती हो ? मैंने थोडा शर्मा कर जबाब दिया हटो न बाबू जी ?

मैं सवेरे सवेरे उसके घर काम करने जाया करती थी . मैं घंटी बजाती तो वह दरवाजा खोलता तो.मैं अन्दर जाकर अपना काम करने लगती ? एक दिन ऐसा हुआ की मैं जब पहुंची तो देखा की दरवाजा अन्दर से खुला है हां उढ़का हुआ जरुर था . इतवार का दिन था . मैं दरवाजा अन्दर से बंद करके दबे पाँव भीतर चली गयी और अपना काम चुपचाप करने लगी . जब काम ख़तम हो गया तो मैं बाबू जी के कमरे में यह कहने गयी की दरवाजा बंद कर लो मैं जा रही हूँ लेकिन मैं तुरंत रुक गयी . मैंने देखा की वह बेड पर नहीं ज़मीन पर लेटा है बिलकुल नंगे बदन है लुंगी खुली हुई है और उसका लौड़ा तम्बू की तरह तना हुआ है . लण्ड टन्ना कर खड़ा हुआ है और उसके ऊपर लुंगी का कोना चदा हुआ है इसलिए लौड़ा दिख नहीं रहा है . मैं यह सीन देख कर सोचने लगी हाय दईया कितना लम्बा है इसका लण्ड ? ऐसा लौड़ा तो बड़े बड़े मर्दों का नहीं होगा ? अब मैं लण्ड देखने के लिए ललचा गयी मेरी चूत में पानी आ गया . मेरे बदन में सिरहन होने लगी . मैंने सोचा की मैं अगर लुंगी का कोना हटा दूं तो लौड़ा पूरा दिख जायेगा. मैंने हिम्मत की और धीरे से आहिस्ते आहिस्ते लुंगी हटा दी . वाओ, अब टन टनाता लौड़ा मेरे सामने खड़ा था .लण्ड की झांटें बिलकुल नहीं थी . चिकना लण्ड सुपाडा टना टन्न ? मैं बड़ी देर तक लण्ड देखती रही . . मैंने ब्लाउज की बटन खोल दी . दोनों चूंचियाँ बाहर निकाल लीं . फिर हिम्मत करके ; लौड़ा छू लिया . उसका सुपाडा फूला हुआ था उसे देख कर मेरी लार टपकने लगी . मन कर रहा था की लौड़ा पूरा मुह में लेकर चूसू . खैर मैंने धीरे से लण्ड को अपनी मुठ्ठी में ले लिया . साला बहन चोद इतना मोटा था की मेरी एक मुठ्ठी में आ भी नहीं रहा था . पर मैंने पोले पोले लण्ड सहलाना शुरू किया . जबान निकाल कर लण्ड का सुपाडा छुआ . जबान से लण्ड छूना मज़ा देने लगा . मैं बड़ी खुश थी की आज बहुत दिनों के बाद किसी मर्दाने लण्ड का दीदार हो रहा है . मैंने दूसरे हाथ से पेल्हड़ भी छुए . बड़ा मज़ा आया . मैं सोच ही रही थी की कहीं बाबू जी जग न जाये ? लेकिन मैं पीछे नहीं हटी और लण्ड थोडा जोर से पकड़ कर हिलाने लगी . तब मुझे अहसास हुआ की बाबू जी भी नीचे से उचक उचक कर जोर लगा रहे है . इसका मतलब बाबू जी जग गए है . मैंने लण्ड और जपोर से पकड़ा और कई बार उसकी चुम्मी ली . फिर दनादन्न ऊपर नीचे करने लगी . मुझे यकीं हो गया की बाबू जी जग गए है और वो भी मज़ा लेने लगे है .

मैंने कहा :- बड़ा मस्ताना लौड़ा है आपका बाबू जी ? मुझे बहुत पसंद आ गया है ?

बाबू जी ने बस मुझे अपनी तरफ खींच लिया और मेरी चूंचियाँ मसलने लगे

बाबू जी ने कहा :-मुझे भी तेरी चूंचियाँ बहुत पसंद है कम्मो ? जबसे मैंने तेरी बड़ी बड़ी चूंचियाँ देखि है तबसे मेरे मन में उथल पुथल हो रही है . मेरा लण्ड तेरे नाम से ही खड़ा होने लगा . इसलिए आज मैंने एक प्लान बनाया की आज मैं तुझे अपना लण्ड पकड़ा दूंगा ?

मैंने कहा :- हाय अल्ला, मैं तो जाने कबसे तेरा लण्ड पकड़ने के मूड में हूँ . आपने कहा होता तो मैं पहले ही पकड लेती ? उस दिन जन मैंने आपको नंगे बाथ रूम से आते हुए देखा तो मेरी नज़र आपके लण्ड पर टिक गयी थी . तबसे और आज तक मेरे आँखों के सामने बस आपका लण्ड ही घूमा करता है आज मेरे मन की तमन्ना पूरी हुई ?

बाबू जी बोला :- लेकिन मेरी तमन्ना नहीं पूरी हुई ?

मैंने कहा :- हाय दईया, अब बताओ न मैं क्या करू ? आपको तमन्ना कैसे पूरी होगी ?

बाबू जी बोला :- मेरा लण्ड जब तेरी बुर में जायेगा तब ?

मैंने कहा :- तो चोदो न मुझे बाबू जी ? मेरी चूत बड़ी देर से तड़प रही है . पर पहले मुझे लण्ड प्यार से चाट लेने दो चूस लेने दो इस भोषडी वाले मुस्टंडे लण्ड को ?

ऐसा कह कर मैं लण्ड चाटने लगी . मुझे बाबू ही के पेलहड़ भी बहुत अच्छे लग रहे थे . मैं अपनी जबान से पेल्हड़ से लेकर सुपाड़े तक बार बार ऊपर नीचे करके चाटने लगी . कभी लण्ड का सुपाडा पूरा मुह में लेती कभी लण्ड चूंची पर रगडती कभी लण्ड का चुम्मा लेती कभी सुपाडे पर चारों तरफ जबान घुमाती ? मैं लण्ड का भर पूर मज़ा लेने में जुटी थी . मैं अपनी चूत बाबू जी के मुह पे रख दिया था . बाबू जी भी मेरी चिकनी बुर का पूरा मज़ा ले रहे थे . मैं सवेरे सवेरे ही झांट बना कर आयी थी . पिछले कई दिनों से मैं हर रोज़ यह सोंच कर झांटें बना कर आती हूँ की पता नहीं कब बाबू जी मेरी बुर देख ले ? और आज वो दिन आ गया जब मेरी बुर बाबू जी के मुह में है और उसका लण्ड मेरे मुह में .

मैं दुबारा पेल्हड़ से चाटना शुरू करती और सुपाडा तक चली जाती और वापस सुपाडे से पेल्हड़ तक आ जाती . मैंने कई बार ऐसा किया . मुझे लण्ड का पूरा मज़ा मिल रहा था . अचानक मेरी बुर चुलबुला उठी . फिर मैं नहीं रुकी .फैला दी अपनी चूत और लण्ड पकड़ कर उसपर रगड़ने लगी . फिर बाबू जी से न रहा गया . उसने पेल दिया लण्ड मेरी चूत में पूरा का पूरा ? उसका लण्ड घुसते ही मैं चिल्ला पड़ी अरे भोषडी के क्या आज ही फाड़ डालोगे मेरी बुर ? साले धीरे धीरे पेलो न लौड़ा ? तेरा लण्ड बड़ा हरामी है बड़ा बेरहम है मादर चोद ? इसको बुर फट जाने की कोई परवाह नहीं है . मैं आज इसकी गांड मारूंगी .

ऐसा कह कर मैं भी जोश में आ गयी . मुझे भी मज़ा आने लगा . मैं अपनी गांड उठा उठा कर चुदवाने लगी भकाभक ? मैंने मन में कहा हां आज मिला है मुझे कोई मर्द ? कोई चोदने वाला लण्ड ? थोड़ी देर में मैं उसके ऊपर चढ़ बैठी . उसके लण्ड पर चढ़ बैठी . मैं कूद कूद कर चुदाने लगी . मेरी चूंचियाँ उसके सामने उछल उछल रही थी . वह मेरी चूंचियाँ देख देख कर मेरी बुर चोदे चला जा रहा था . फिर मैंने कहा हाय बाबू जी अब पीछे से भी चोदो न मुझे . बस मैं बन गयी कुतिया और चुदाने लगी . मैंने कहा बाबू जी तुम बड़े चोदू हो . लगता है की तुम कई लड़कियां चोद चुके हो ? बाबू जी बोले हां मुझे चोदने का शौक है मैं जहाँ पाता हूँ बुर चोद लेता हूँ . पर तुम भी कम नहीं हो कम्मो ? तुम भी कई मर्दों से चुदवा चुकी हो ? मैंने कहा आपने सही कहा बाबू जी ? मैं लण्ड की दीवानी हूँ जहाँ मिल जाता है लण्ड वहां घुसेड लेती हूँ अपनी चूत में . अभी पिछले हफ्ते मैं लाल वाली कोठी के बाबू जी से चुदवा कर आयी हूँ . लेकिन उसका लौड़ा इतना बड़ा नहीं है जितना बड़ा आपका है ?

बाबू जी बोले :- उसकी तो बीवी है . वह भी साथ रहती है .

मैंने कहा :- हां है लेकिन उस दिन नहीं थी . पर एक बात है बाबू जी उसकी बीवी बड़ी मस्त औरत है . उसकी बुर लोगे बाबू जी ?

बाबू जी बोले :- हां कम्मो, मैं उसको जरुर चोदना चाहता हूँ . ससुरी बड़ी सेक्सी लगती है मुझे ? जब मैं उसे चलते हुए देखता हूँ तो मन करता ही की घुसेड दूं लण्ड इसकी चूत में ? पर क्या मुझे बुर दे देगी वो ?

मैंने कहा :- हां देगी क्यों नहीं बुर चोदी ? मैं दिलवाऊँगी तुम्हे उसकी बुर ? अगर नहीं देगी तो मैं उसका भंडा फोड़ कर दूँगी . मैं उसकी माँ चोद दूँगी . मैं जानती हूँ की वह भोषडी वाली किस किस से चुदवाती है ?

बाबू जी ने कहा :- तो उसको मेरा लौड़ा पसंद आएगा ?

मैंने कहा :- हां बाबू जी, बिलकुल पसंद आएगा . ऐसा लौड़ा तो बड़े मुश्किल से मिलता है . उसके मर्द का लौड़ा इतना मोटा कहाँ है ?

और एक बात बताऊँ ” तुम बड़ा बढ़िया चोदते हो बाबू जी


बड़ा बढ़िया चोदते हो, बाबू जी ? aunty chudai, bahan chudai, behan chudai, bhabhi ke, chudai ladki, chut chudai, hindi story chudai - Desi Sex Stories, First Time Sexaunty, stories, bhabhi, choot, chudai, nangi, stories, desi, aunty, bhabhi, erotic stories, chudai, chudai ki, hindi stories, urdu stories, bhabi, choot, desi stories, desi aunty, bhabhi ki, bhabhi chudai, desi story, story bhabhi, choot ki, chudai hindi, chudai kahani, chudai stories, bhabhi stories, chudai story, maa chudai, desi bhabhi, desi chudai, hindi bhabhi, aunty ki, aunty story, choot lund, chudai kahaniyan, aunty chudai, bahan chudai, behan chudai, bhabhi ko, hindi story chudai, sali chudai, urdu chudai, bhabhi ke, chudai ladki, chut chudai, desi kahani, beti chudai, bhabhi choda, bhai chudai, chachi chudai, desi choot, hindi kahani chudai, bhabhi ka, bhabi chudai, choot chudai, didi chudai, meri chudai, bhabhi choot, bhabhi kahani, biwi chudai, choot stories, desi chut, mast chudai, pehli chudai, bahen chudai, bhabhi boobs, bhabhi chut, bhabhi ke sath, desi ladki, hindi aunty, ma chudai, mummy chudai, nangi bhabhi, teacher chudai, bhabhi ne, bur chudai, choot kahani, desi bhabi, desi randi, lund chudai, lund stories, bhabhi bra, bhabhi doodh, choot story, chut stories, desi gaand, land choot, meri choot, nangi desi, randi chudai, bhabhi chudai stories, desi mast, hindi choot, mast stories, meri bhabhi, nangi chudai, suhagraat chudai, behan choot, kutte chudai, mast bhabhi, nangi aunty, nangi choot, papa chudai, desi phudi, gaand chudai, sali stories, aunty choot, bhabhi gaand, bhabhi lund, chachi stories, chudai ka maza, mummy stories, aunty doodh, aunty gaand, bhabhi ke saath, choda stories, choot urdu, choti stories, desi aurat, desi doodh, desi maa, phudi stories, desi mami, doodh stories, garam bhabhi, garam chudai, nangi stories, pyasi bhabhi, randi bhabhi, bhai bhabhi, desi bhai, desi lun, gaand choot, garam aunty, aunty ke sath, bhabhi chod, desi larki, desi mummy, gaand stories, apni stories, bhabhi maa, choti bhabhi, desi chachi, desi choda, meri aunty, randi choot, aunty ke saath, desi biwi, desi sali, randi stories, chod stories, desi phuddi, pyasi aunty, desi, chod, choti, randi, bahan, indiansexstories, kahani, mujhe, chachi, garam, desipapa, doodhwali, jawani, ladki, pehli, suhagraat, choda, nangi, behan, doodh, gaand, suhaag raat, aurat, chudi, phudi, larki, pyasi, bahen, saali, chodai, chodo, ke saath, nangi ladki, behen, desipapa stories, phuddi, desifantasy, teacher aunty, mami stories, mast aunty, choots, choti choot, garam choot, mari choot, pakistani choot, pyasi choot, mast choot, saali stories, choot ka maza, garam stories, , हिंदी कहानिया, ज़िप खोल, यौनोत्तेजना, मा बेटा, नगी, यौवन की प्या, एक फूल दो कलियां, घुसेड, ज़ोर ज़ोर, घुसाने की कोशिश, मौसी उसकी माँ, मस्ती कोठे की, पूनम कि रात, सहलाने लगे, लंबा और मोटा, भाई और बहन, अंकल की प्यास, अदला बदली काम, फाड़ देगा, कुवारी, देवर दीवाना, कमसीन, बहनों की अदला बदली, कोठे की मस्ती, पेलने लगा , चाचियाँ , असली मजा , तेल लगाया , सहलाते हुए कहा , पेन्टी , तेरी बहन , गन्दी कहानी, छोटी सी भूल, चचेरी बहन , आण्टी, kamuk kahaniya, सिसकने लगी , कामासूत्र , नहा रही थी , घुसेड दिया
Wednesday, February 25, 2015

मेरा पहला सम्भोग

हेलो दोस्तों, मेरा नाम सुकेश है | मेरी उम्र ५५ साल है और मै एक विधुर हु; मतलब मेरी बीवी मर चुकी है | मैने अपनी जिन्दगी मे बहुत बार सेक्स किया है और काफी लोग के साथ भी; मतलब बीवी के अलावा भी काफी सारी लडकियों, लडको और शीमेल के साथ भी | आज से, मै आपके साथ अपने हर सेक्स वर्तांत को बाटूंगा | ये ही मेरी सेक्स के नाम पर जमा पूंजी है, जो मुझे लगता है, कि मुझे आप लोगो के साथ बांटना चाहिए | उस समय १४ साल का था और मै लडको के होस्टल मे पढता था | उस समय, मुझे सेक्स के बारे मे कुछ भी नहीं मालूम था | वैसे भी, मेरे समय के लोग इतने समझदार नहीं थे, कि सेक्स के बारे मे लोग लोग बड़े आराम से बात करते हो और न ही उस समय टीवी और इन्टरनेट भी नहीं था और सेक्सी मैगज़ीन भी हाथ नहीं लगती थी | जो भी जवान लोग सेक्स किए बारे मे सीखते थे, वो सब दोस्तों से ही सीखते थे |


हम लोगो के होस्टल मे सर्दियों मे छुट्टिया नहीं होती थी, लेकिन ठण्ड काफी पडती थी | उस समय, मुझे नहीं मालूम था कि मेरी ही क्लास के एक लड़के की नज़रे मुझ पर है और वो मेरे साथ सेक्स करना चाहता था | मैने अपनी एक क्लास के एक लड़के के बारे मे काफी सुना था, कि वो सारा रंडी है और वो सब से अपनी गांड मरवाता है | लेकिन, मुझे नहीं मालूम था, कि एक दिन मेरी भी यही हालत होते वाली है | उस लड़के ने धीरे-धीरे अपना जाल बिछाना शुरू किया और वो मेरे से काफी ठण्ड के बारे मे बातें करता था और मुझे से पूछता था, कि मेरे लंड का आकार कितना है और उसका रंग क्या है? क्या मेरा लंड खड़ा होता है या नहीं?


शुरू-शुरू मे तो, मुझे ये सब बकवास लगता था और बड़ा ही अजीब लगता था | लेकिन बाद मे, जब भी वो मुझे से बातें करता था; तो मेरा लंड खड़ा होने लगता था | अब मुझे अपना बड़ा और खड़ा लंड देखने की इच्छा होती थी | लेकिन , बाथरूम और कमरे मे ये सब नहीं हो सकता था | इसलिए, मुझे जब भी लगता था, कि मेरा लंड खड़ा होने वाला है; मै लैट्रिन मे भाग जाता था और अपना पूरा पजामा उतार कर अपने लंड को खड़ा होते देखता था और उसको छूकर मज़े लेता था; लेकिन उसके आगे मुझे मालूम नहीं था | एक दिन, उस लड़के ने मुझे बोला, कि आज रात मै तुझे तेरे लंड के बारे बताऊंगा और उससे मज़े लेना सिखाऊंगा | रात को खाने के बाद, हम दोनों ठण्ड में ही; स्कूल की बिल्डिंग चले गये; क्योकि, वो ही एक इसी जगह थी, जगह थोड़ी सी रौशनी थी और वहां उस समय कोई नहीं आता-जाता था |


उसने वहा पहुचते ही, मेरा लंड पजामा के ऊपर से पकड़ लिया और उसको खीचने लगा | मैने उसको पीछे धकलने की काफी कोशिश ही, लेकिन वो मुझ से ज्यादा ताकतवर था और उसने मेरे पजामे के नाड़े को खोलना शुरू कर दिया | उसने मेरा पजामा पूरा उतार दिया और मेरा अंडरवीयर भी नीचे कर दिया और मै नीचे से पूरा नंगा हो गया | मेरा लंड हलके-हलके झटके मार रहा था और खड़े होने की नाकाम कोशिश कर रहा था | उसने मेरे लंड को कसकर अपनी मुट्टी मे पकड़ लिया और भींचकर, जोर से मेरा मुठ मारने लगा | उसका दूसरा हाथ, मेरे चूतडो पर चला गया और मेरे गांड के छेद मे उसकी ऊँगली जाने लगी | मैने अपने हाथो से उसका हाथ हटा दिया; तो वो हंसने लगा और बोला, अच्छा किसी और दिन |


लेकिन, उसने मेरा मुठ मरना जारी रखा और मुझे लगने लगा, कि मेरे अन्दर से कुछ बाहर आने वाला है | मेरे लंड के अन्दर कुछ चुभ रहा था और मेरे मुह से सिसकिया निकल रही थी | aaaaaaaahhhhh……………..उह्ह्हह्ह्ह्ह……मर गया | जब मैने उसको इस बारे मे बताया; तो उसने बोला, कि अब तू झड़ने वाला है | अचानक से, ये चुभन तेज हो गयी और मुझे लगने लगा, कि कुछ बहुत ही तेजी से बाहर आ रहा है और उस अहसास के साथ, मेरे लंड से कुछ चिपचिपा बहुत तेजी से बाहर आ गया और वो सारी जमीन पर फैल गया | उसने बोला, कि तेरा वीर्य बाहर आ गया | मेरा लंड, जितनी तेजी से खड़ा हुआ था उतनी ही तेजी से छोटा भी हो गया | फिर, उसने अपने आप को नंगा किया और अपना लंड मेरे हाथ मे पकड़ा दिया और उसका मुठ मरने को बोला | मैने भी उसके साथ वही किया; जो उसने मेरे साथ किया था | कुछ ही समय में, वो भी झड़ गया और हम दोनों वापस आ गये |


उस रात करीब १२:०० बजे उसने मुझे जगाया और पहली बार अपना लंड मेरी गांड में गुसाने की नाकाम कोशिश की | लेकिन, उसने अपने लंड को मेरी गांड पर बड़े अच्छे से रगडा और मेरे छेद को अपने वीर्य से सरोबार कर दिया | उस दिन के बाद, तो मुझे मुठ मारने की आदत लग गयी और मैने हरदिन में, दो-तीन बार मुठ मारना शुरू कर दिया | दोस्तों, मैने अपना पहला सेक्स अनुभव १४ साल की उम्र में किया था और आपने …


मेरा पहला सम्भोग aunty ki, Aunty Story, bhabhi stories, choot lund, chudai kahaniyan, DESI CHUDAI, hindi bhabhi, maa chudai - First Time Sexaunty, stories, bhabhi, choot, chudai, nangi, stories, desi, aunty, bhabhi, erotic stories, chudai, chudai ki, hindi stories, urdu stories, bhabi, choot, desi stories, desi aunty, bhabhi ki, bhabhi chudai, desi story, story bhabhi, choot ki, chudai hindi, chudai kahani, chudai stories, bhabhi stories, chudai story, maa chudai, desi bhabhi, desi chudai, hindi bhabhi, aunty ki, aunty story, choot lund, chudai kahaniyan, aunty chudai, bahan chudai, behan chudai, bhabhi ko, hindi story chudai, sali chudai, urdu chudai, bhabhi ke, chudai ladki, chut chudai, desi kahani, beti chudai, bhabhi choda, bhai chudai, chachi chudai, desi choot, hindi kahani chudai, bhabhi ka, bhabi chudai, choot chudai, didi chudai, meri chudai, bhabhi choot, bhabhi kahani, biwi chudai, choot stories, desi chut, mast chudai, pehli chudai, bahen chudai, bhabhi boobs, bhabhi chut, bhabhi ke sath, desi ladki, hindi aunty, ma chudai, mummy chudai, nangi bhabhi, teacher chudai, bhabhi ne, bur chudai, choot kahani, desi bhabi, desi randi, lund chudai, lund stories, bhabhi bra, bhabhi doodh, choot story, chut stories, desi gaand, land choot, meri choot, nangi desi, randi chudai, bhabhi chudai stories, desi mast, hindi choot, mast stories, meri bhabhi, nangi chudai, suhagraat chudai, behan choot, kutte chudai, mast bhabhi, nangi aunty, nangi choot, papa chudai, desi phudi, gaand chudai, sali stories, aunty choot, bhabhi gaand, bhabhi lund, chachi stories, chudai ka maza, mummy stories, aunty doodh, aunty gaand, bhabhi ke saath, choda stories, choot urdu, choti stories, desi aurat, desi doodh, desi maa, phudi stories, desi mami, doodh stories, garam bhabhi, garam chudai, nangi stories, pyasi bhabhi, randi bhabhi, bhai bhabhi, desi bhai, desi lun, gaand choot, garam aunty, aunty ke sath, bhabhi chod, desi larki, desi mummy, gaand stories, apni stories, bhabhi maa, choti bhabhi, desi chachi, desi choda, meri aunty, randi choot, aunty ke saath, desi biwi, desi sali, randi stories, chod stories, desi phuddi, pyasi aunty, desi, chod, choti, randi, bahan, indiansexstories, kahani, mujhe, chachi, garam, desipapa, doodhwali, jawani, ladki, pehli, suhagraat, choda, nangi, behan, doodh, gaand, suhaag raat, aurat, chudi, phudi, larki, pyasi, bahen, saali, chodai, chodo, ke saath, nangi ladki, behen, desipapa stories, phuddi, desifantasy, teacher aunty, mami stories, mast aunty, choots, choti choot, garam choot, mari choot, pakistani choot, pyasi choot, mast choot, saali stories, choot ka maza, garam stories, , हिंदी कहानिया, ज़िप खोल, यौनोत्तेजना, मा बेटा, नगी, यौवन की प्या, एक फूल दो कलियां, घुसेड, ज़ोर ज़ोर, घुसाने की कोशिश, मौसी उसकी माँ, मस्ती कोठे की, पूनम कि रात, सहलाने लगे, लंबा और मोटा, भाई और बहन, अंकल की प्यास, अदला बदली काम, फाड़ देगा, कुवारी, देवर दीवाना, कमसीन, बहनों की अदला बदली, कोठे की मस्ती, पेलने लगा , चाचियाँ , असली मजा , तेल लगाया , सहलाते हुए कहा , पेन्टी , तेरी बहन , गन्दी कहानी, छोटी सी भूल, चचेरी बहन , आण्टी, kamuk kahaniya, सिसकने लगी , कामासूत्र , नहा रही थी , घुसेड दिया

मौसी से सेक्स ज्ञान-2

मौसी अभी यही समझ रहीं थीं कि मैं उत्तेजित होकर नींद में ही झड़ा हूँ। उन्होंने मेरा लण्ड कस कर पकड़े रखा जब तक मैं पूरा झड़ नहीं गया।

उनका हाथ चड्डी के ऊपर से गीला हो चुका था, मैंने अपनी जांघ पर उनकी चूत का गीलापन साफ़ महसूस किया वो भी झड़ चुकी थी। अपने हाथ में लगे मेरे लण्ड के पानी को चाट रही थी वो ! चुद तो नहीं सकी थी पर एक युवा मर्द के संपूर्ण अंगों से खेलने का सुख शायद उनको बहुत समय बाद मिला था।

वो बिस्तर पर मेरा किसी औरत के स्पर्श का पहला अनुभव था और औरत के जिस्म का सही पहला सुख…

मैं मौसी को उस रात चोद तो न सका, शायद अनाड़ीपन और शर्म के कारण !

पर अपने कसरती जिस्म का जो चस्का मैंने मौसी जी को लगा दिया था उससे मुझे पता था कि आने वाली सैकड़ों रातों में वो मेरे बिस्तर पर खुद आने वाली थी और मैंने भी सोच लिया था कि मौसी की सालों से बंजर पड़ी चूत के खेत में अपने लण्ड से न सिर्फ कस कर जुताई करनी थी बल्कि खाद पानी से उसे फिर से हरा भरा करना था।

मौसी को कस कर पेलने का अरमान दिल में लिए मैं गीली चड्डी में चिपचिपेपन को बर्दाश्त करता हुआ सो गया।

अगले दिन सुबह मौसी मेरे साथ इस तरह सामान्य थी जैसी रात में कुछ हुआ ही न हो।

मैं शुरू में तो उनसे आँख चुरा रहा था पर उनका बर्ताव देख कर मैं भी कुछ सामान्य हो गया पर…दिमाग पर मौसी का गदराया जिस्म छाया हुआ था। जीवन में पहली बार मैंने मौसी जी को दिन के उजाले में कामवासना की नज़र से देखा था। उनके एक एक अंग की रचना को पढ़ने की कोशिश कर रहा था और उससे मिलने वाले सुख की कल्पना कर रहा था।

उनकी गोल बड़ी बड़ी मस्त चूचियाँ, उठे उठे भारी चूतड़ हिलते हुए कूल्हों से लपकती दिखती गाण्ड की मोटी दरार… आज सब अंग सेक्स को आमंत्रण दे रहे थे।

सुबह के ग्यारह बज रहे थे, पापा ऑफिस चले गए थे और मम्मी स्कूल। छोटा भाई ड्राइंग रूम में कार्टून फिल्म देख रहा था।

मैंने मौसी से कहा- मौसी, मैं बाथरूम में नहाने जा रहा हूँ ज़रा आप आकर मेरी पीठ मल देंगी क्या?

“हाँ हाँ ! क्यों नहीं? … तुम चलो, मैं आती हूँ !” वो हंस कर बोली।

मैं बाथरूम में चला गया, मेरा मन मौसी के स्पर्श के विचार से खुशी से धड़क उठा। मैं सिर्फ फ्रेंची में था, पानी में भीग कर तना हुआ लण्ड बिल्कुल मूसल दिख रहा था।

मैं ऐसे बैठा था कि मौसी जी की नजर आते ही मेरे लण्ड पर पड़े !

और वैसा ही हुआ, मैंने देखा दूर से आती मौसी की नज़र जैसे ही मुझ पर पड़ी, वो मेरे लण्ड पर ही जाकर अटक गई।

“आइए.. मौसी जी… !” मैं उनकी नज़र को अनदेखा करते हुए बोला- मेरी पीठ पर अच्छे से साबुन लगा कर मल दीजिये, अपने हाथ से बढ़िया से नहीं हो पाता है ना..

“अरे, तुम बैठे रहो, मैं देखना कितना बढ़िया से मलती हूँ…. !” कह कर मौसी मेरी पुष्ट पीठ को मलने लगी।

मेरे लण्ड में सनसनी शुरू हो गई, खड़े लण्ड को मौसी रह-रह कर निहार लेती थी। पीठ रगड़ते हुए वह बोली- लाओ, अब जब हाथ लगाया ही है तो पूरा ठीक से रगड़ देती हूँ ! अपने पैर इधर करो ! कह कर वो मेरे सामने बैठ गई।

मैं बिल्कुल उनके सामने था, वो मेरी जांघों को साबुन लगाकर मलने लगीं, अब वे मेरे तने और फूले लण्ड को खुल कर देख सकती थी और उनका हाथ पैरों को रगड़ते रगड़ते मेरी चड्डी तक पहुँच जाता था, उनकी उंगलियाँ मेरे लण्ड को स्पर्श कर लौट जाती थी।

नहाने में इतना मज़ा पहली बार आ रहा था, उनसे लण्ड छुवाने का मेरा मकसद तो पूरा हो रहा था वो भी मेरे लण्ड को उजाले में नंगा देखने को आतुर थी।

मौसी ने पानी डाल कर कर मुझे खूब नहलाया। मैं तौलिया लपेट कर चड्डी उतारने लगा लेकिन जानबूझ कर चड्डी उतारते समय तौलिया गिरा दिया, मौसी जी सामने ही खड़ी थी। मेरा मूसल जैसा लण्ड देख कर उनके होश उड़ गए, वे आँखें फाड़ फाड़ कर मेरा विशाल लण्ड देखती रही।

मैं बोल पड़ा- ओह… वेरी सारी मौसी जी…सारी…

“अरे बस..बस.. बचपन में कई बार देखा है तुम्हें ऐसे.. शर्माने की कोई बात नहीं है ! जाओ बैठो, मैं नाश्ता देती हूँ।”

“आप जाइए, मैं चड्डी धोकर डाल दूँ, फिर आता हूँ.. ” मैंने कहा।

मैं कर दूँगी, तुम जाओ…” वो बोली और मेरी चड्डी उठाकर साबुन लगाने लगी..

मैंने देखा कि चड्डी में वीर्य के दाग साफ़ चमक रहे थे पर मौसी तो सब जानती थी इसलिए वो मुझसे बिना कुछ पूछे उन दागों को रगड़ने लगी।

मेरा लण्ड फिर झटके लेने लगा था… पर तभी काम वाली आ गई थी इसलिए अब तो मुझे बेचैनी से रात का इंतज़ार था जब मौसी जी मेरे पास लेटने वाली थी !

दोपहर में मम्मी पर आ गई इसलिए मैंने अपने एक दोस्त के घर जाकर ब्लू फिल्म देखी, शाम को खाना खाकर जैसे ही सब सोने के लिए ऊपर छत पर गए तो मैंने थोड़ी देर के लिए किताब खोली पर मन कहीं ओर था इसलिए जल्दी ही किताब एक ओर रख कर मैंने लाईट बुझा दी और लण्ड हाथ में पकड़ कर मैं लेट कर मौसी के आने का इन्तज़ार करने लगा।

मैंने वैसलीन की शीशी पहले से सिरहाने रख ली थी, मुझे पूरा विश्वास था कि आज मेरे मूसल जैसे लण्ड को देखने के बाद मौसी की चूत में खुजली जरूर हो रही होगी।

ऊपर मौसी की बातें करने और हंसने की आवाजें आ रही थी, मैं बेचैन सा करवटें बदल रहा था।

करीब एक घंटे के बाद मैंने किसी के छत से उतरने की आवाज सुनी। मेरे कमरे का दरवाजा खुला, मौसी ही थी !

उन्होंने कमरे की बत्ती जलाई, एक नज़र मुझे देखा और मुस्कुराई।

मैंने आँखें बंद किये हुए चोरी से देखा, वो गुलाबी मैक्सी में थी, उनके बड़े बड़े चूतड़ और मस्त बड़ी बड़ी चूचियाँ साफ़ चमक रही थी।

मेरे लण्ड ने झटके लेने शुरू कर दिये, मौसी ने लाइट बुझाई और बाथरूम में घुस गई। उनके मूतने की आवाज रात के सन्नाटे में कमरे में साफ़ सुनाई दी। मन तो किया बाथरूम में मूतते हुए पकड़ कर उनको अध-मूता ही चोदना शुरू कर दूँ या उनके नमकीन मूत से तर बुर को भीतर तक जबान डाल कर चाटूँ।

लेकिन चुदने से पहले औरत खुल कर मूत ले तो अच्छा रहता है।

मौसी मूत कर मेरे बिस्तर पर आकर मेरे ही पास लेट गई, मेरा दिल जोर जोर से धडकने लगा। मैंने अपने फड़कते हुए टन्नाये लण्ड को अपनी दोनों टांगों के बीच दबा लिया। मैं चाहता था कि शुरुआत मौसी की तरफ से हो।

दो मिनट बीते थे कि मैंने अपने सीने पर मौसी जी का हाथ रेंगते हुए महसूस किया। वो मेरे सीने में आ रहे हल्के-हल्के बालों सो सहलाते हुए अपना हाथ मेरे लण्ड की तरफ ले जाने लगी, मैं समझ गया कि मेरे लण्ड का जादू इन पर चल गया है लेकिन मैं अपने खड़े लण्ड को उनको अभी पकड़ाना नहीं चाहता था इसलिए मैं उनकी तरफ पीठ करके घूम कर लेट गया मैं ने फ्रेंची और कट वाली बनियान पहन रखी थी।

मौसी ने भी मेरी तरफ करवट लेकर अपनी मैक्सी पेट तक उठा कर अपनी फूली हुई दहकती चूत को मेरे पिछवाड़े से सटा दिया वो मेरे चूतड़ों को सहलाते हुए हल्के से कराह रही थी।

उन्होंने दूसरे हाथ से मेरा चेहरा अपनी ओर घुमाया और मेरे होंठों पर चुम्बन करने लगी। मेर लिए अब बर्दाश्त करना असंभव था, मैंने उनकी और करवट बदली अब मैं और वो आमने-सामने थे।

उन्होंने मेरा हाथ पकड़ कर अपनी चूचियों को मलना शुरू किया और मेरे होंठ अपने होंठों में ले लिए।

मैंने बिना देर किए उनकी चूचियों को मैक्सी के ऊपर से हौले हौले मसलना शुरू कर दिया और उनके होंठों को भी चूसने लगा।

मौसी तो जैसे मस्ती में मदहोश थी, मेरे चूची दबाने से मिलने वाले सुख में वो इतना डूबीं थी कि वो भूल गईं कि मैं जाग रहा हूँ।

उनके होंठ चूसते हुए मैंने अपना दूसरा हाथ उनकी गर्म चूत पर रख दिया, ऐसा लगा जैसे हाथ को किसी हीटर पर रख दिया हो !

मौसी मीठा सा कराह रही थी, उनकी मदहोशी का फायदा उठाते हुए मैंने एक उंगली उनकी चूत में घुसेड़ दी।

मौसी को अब करेंट लगा था, चौंक कर उन्होंने मेरा हाथ पकड़ लिया- मुन्ना… ओ.. ओ मुन्ना…? वो फ़ुसफुसाई।

मैंने उनकी चूचियों को कसकर मसल दिया और होंठों को अपने होंठों में लेकर कस कर चूसा। मौसी के मुँह से एक सीत्कार निकली।

“नहीं… बस… और कुछ मत बोलो मेरी जान !” मैंने उनके कान में कहा।

उनको मुझसे ऐसे जवाब की उम्मीद नहीं थी पर उनको उत्तेज़क जवाब अच्छा जरूर लगा- माही… मैं हूँ मौसी…

“हाँ ! पर दिन के उजाले में… रात को अब तुम सिर्फ मेरा माल हो… मेरी जान..! कल रात तुमने मुझे अपना गुलाम जो बनाया है…!”

“तो क्या कल रात तुम?”… वो चौंक पड़ी।

“हाँ, मैं जाग रहा था और तड़पता रहा सारी रात ! पर अब नहीं… !” कह कर मैं मौसी के ऊपर आ गया और एक झटके में उनकी मैक्सी को पूरा ऊपर करते हुए उनकी गोल-गोल चूचियों को कस कर पकड़ कर जो मसलना शुरू किया तो मौसी ना नहीं कर पाई- “हाय धीरे माही… तुम नहीं जानते मैं कितना अकेली हूँ ! इसीलिए मैं कंट्रोल नहीं कर पाई और तुमको…!”

“अरे नहीं, आपने बिल्कुल सही नंबर डायल किया है, किसी को पता भी नहीं चलेगा और आपकी पूरी सेवा भी…!”

“बस अब बातें नहीं… प्यार… बहुत प्यार चाहिए मुझे ! मैं बहुत प्यासी हूँ…!” कह कर उन्होंने मेरे होंठ अपने होंठों में लेकर चूसना शुरू कर दिया।

काम का ज्वर दोनों के जिस्मों पर हावी था मेरे कसरती बाजुओं ने मौसी को कसकर जकड़ लिया, उनकी दोनों चूचियाँ मेरे कठोर सीने में पिस रही थी, उन्हें दर्द हो रहा था पर वो काम ज्वर का दर्द था।

मौसी के मुँह में मैंने अपनी जीभ डाल दी, उन्होंने मेरी जीभ को खूब चूसा। मैंने अपनी जीभ से उनके मुँह का आकार टटोल डाला। वो लगातार तड़प रही थी। मैं अब चूचियों से नीचे आकर उनकी टांगों के बीच में घुटनों के बल बैठ गया और अपना मुँह उनकी लहराती चूत पर रख दिया।

मौसी इसके लिए तैयार नहीं थी, वो सिसक उठीं और नीचे से कमर उठाते हुए अपनी महकती चूत मेरे मुँह से चिपका दी।

उनकी चूत पानी से तर थी खुश्बूदार नमकीन पानी का स्रोत सामने हो और कामरस झर रहा हो तो कौन प्यासा रहना चाहेगा, मैंने अपने हाथ उनकी चूचियों पर फिट कर दिए और उन्हें दबाते हुए अपनी लपलपाती जीभ से उनकी बुर की दोनों फांकों को अलग कर दिया।

मौसी हाय कर उठी, मेरे बालों को पकड़ कर अपनी चूत उठाकर उन्होंने मेरे मुँह में दे दी। मैंने पूरी जीभ नुकीली करके उनकी बुर में जितना अन्दर डाल सकता था, डाल दी। अन्दर कामरस का भण्डार था, सब मैंने अपनी जीब से लपर-लपर चाट लिया। बरसों से रुका दरिया था, शायद मेरी नाक तक कामरस से तर हो रही थी।

मौसी चूत उठा-उठा कर मेरे मुँह पर मार रही थी, वे चूतड़ उठा-उठा कर पूरी ताकत से ऐसा कर रही थी, वो चाहती थी कि उनकी चूत से निकलने वाली एक एक बूँद मैं पी लूँ। मैं भी बचपन का प्यासा था तो मजा दोनों को ख़ूब मिल रहा था।

अचानक मैंने मौसी की चूत का ऊपरी हिस्सा चुटकी से दबा कर चूत का छेद और छोटा कर दिया फिर दोनों होंठों से चूत के नीचे का पूरा हिस्सा होंठों से भर कर ऐसा खींचा जैसे कोई बच्चा आम मुँह में लगा कर चूसता हो।

मौसी पागल हो उठी, बहुत थोड़ी सी खुली चूत के रास्ते उनका कामरस आम के रस के जैसा खिंचकर मेरे मुँह में क्या आया, मौसी गनगना उठी और उन्होंने अपनी टांगों से मेरे सर को कस लिया और बोली- …. हाय राजा ! यह सब कहाँ से सीख लिया? मैं पागल हो जाऊँगी ! अब तो बस चोद मुझे… आज फाड़कर ही हटना मर्द है तो !

मैंने बिना देर किये अपने लण्ड से उनकी चूत को निशाना बनाया जिसे मैंने चूस चूस कर लाल कर दिया था। बुर पर मोटा लाल सुपारा फनफना रहा था। मैंने बुर की दोनों फंकों के बीच ढेर सारा थूक दिया और फिर लाल सुपारे को जोरदार धक्का लगाया। लण्ड दो इंच अन्दर धंस कर रुका।

मौसी काफी दिनों से चुदी नहीं थी तो उनकी चूत नई लौंडिया के जैसी कसी थी, चूत के दोनों पाटों ने लण्ड के वार को रोकने की असफल कोशिश की- आअऽऽ …हा ऽऽ … आ ..ऽऽऽ करके रह गई पर अगले धक्के में लण्ड ने चूत की जड़ को छू लिया।

मौसी की दबी सी चीख निकल गई- अ आ आ…

वो धनुष बन गई। दोनों टांगें मेरे सीने के पीछे से ले जाकर वो मुझे लपेटे थी, उनकी आँखें वासना के ज्वर से बंद हो गईं थी, उनकी नाजुक कमर मेरी मजबूत बाजुओं में जकड़ी हुई थी। वो अपनी गाण्ड उठा-उठा कर लण्ड अन्दर लेने की कोशिश कर रही थी।

पूरा लण्ड बाहर तक खींच कर मैंने एक जोर का धक्का मारा और मौसी आआ..हा कर उठी।

मेरे मखमली बिस्तर पर घमासान मचा हुआ था। मौसी को मैंने कमर से ऐसे जकड़ रखा था जैसे अजगर अपना शिकार पकड़ता है। धधकते लाल लण्ड के सुपारे ने चूत का मुँह फाड़ दिया था।

मौसी छटपटा उठी थी पर सेक्स का मंत्र है कि चोदते समय चूत पर कोई रहम नहीं करना चाहिए, सो मैंने अपनी चड्डी जिससे मौसी की गीली चूत को कई बार पौंछा था को उठा कर मौसी के मुँह में ठूंस दिया और सुपारे को पूरा चूत के मुँह तक खींच खींच कर गिनते हुए चालीस शाट मारे।

मौसी गूं… गूं …करती रही पर चुदती रही। चूतड़ों की लय बता रही थी कि उनको मस्ती आ रही थी। चूत चालीसा पूरा होते होते मौसी का पानी छूट गया, उनकी आँखें जो बड़ी बड़ी फ़ैली हुई थीं अब खुमारी से बंद हो गई थी। मैं भी पक्का था इसलिए झड़ने से पहले लण्ड को रोक कर बाहर निकाल लिया।

“आःह ….और चोद मेरे राजा… भोसड़ा बनने तक रुक मत…. उस्सीह ….आअ…अह्हा…” वो मुँह खुलते ही बोली।

“मेरी जान, सब्र तो करो….!” मैं बोला- अगर मेरी चोदी मादा सुबह लंगडा कर ना चले तो मेरा मर्द होना बेकार समझता हूँ मैं ! ….फिर आपकी तो मूतने की आवाज ही बदल दूंगा मैं सुबह तक !” उनकी टांगों को अपने दोनों हाथों से पूरा चीरता हुआ मैं बोला।

वो फिर गनगना उठी, उनकी दोनों टांगों को ऊपर ले जाकर उनके घुटनों को उनकी चूचियों से लगा दिया उनकी टपकती चूत और गाण्ड बिल्कुल मेरे सामने खुले मैदान की तरह हो गई।

आह्हा… क्या करेगा …????? वो कराह उठी।

“तुमको पीना है….पर नीचे से…. ! मैं उनके कान में फुसफुसाया और ताजी चुदी गर्म चूत को अपने दोनों होंठों में भर लिया।

“हाय माँ…लुट गई मैं !” वो कराह उठी।

“चुप मादरचोद…. ! अभी तो तुझे सारी रात लुटना है…. ! कल से तू अपने को सोलह साल की समझेगी…ऐसा कर दूंगा तुझको… !”

मौसी और उत्तेजित हो उठी- ले साले…पी जा मेरी !

कमर उठा कर अपने हाथों से मेरा सर पकड़ कर चूत में घुसेड़ दिया।

नाक तक चूत में धंस गई मेरी। मैंने उनके रसभरे फूल को होंठों से दबा लिया, वो तड़पने लगी।

“अरे, अब जल्दी चूस चाट के चोद दे अपने पानी से मुझे सींच दे …. रा…जा…” वो नागिन सी कमर लहरा रही थी और मैं कमर को जकड़े घुटनों के बल बैठा चूत में मुँह डाले नमकीन पानी चाटता जा रहा था। मदहोश करने वाली चूत की महक मेरे नथुनों में घुस कर मेरे लण्ड तक पहुँच रही थी।

करीब पांच मिनट तक चूत का रस चूसने के बाद मैंने उनकी चूत को छोड़ा और एक तकिया उनकी कमर के नीचे रख दिया। गीली चूत और लण्ड को उनकी चड्डी से पौंछ कर फिर उनके मुँह में डाल दी।

वो ऊओं…ऊँ…कर उठी पर बेरहमी से मैंने सूखे लण्ड का तना सुपारा उनकी चूत की दोनों फांकों को एक हाथ से चौड़ा करते हुए बीच में फिट कर दिया।

उनके पैरों के ऊपर से जोर लगाते हुए इस बार करारा धक्का मारा, सूखे लण्ड ने चूत को कस कर रगड़ दिया और यह मुझे कसी और नई चूत को चोदने जैसा लगा।

मौसी की हालत बिन पानी के मछली जैसी हो गई। चूत के नीचे तकिया था सो दूसरे ठोकर में लण्ड ने मौसी की बच्चेदानी को स्पर्श किया। मौसी फिर धनुष हो गई …

इस बार चुदाई पंद्रह मिनट चली।

वो मचलती रही… सिसकती रही… ऊओं… गों… गों.. करती रहीं पर लण्ड को पूरा अन्दर लेती रहीं। उनकी टांगों में बहता पानी गवाह था कि वो पूरा मज़ा लूट रही थी।

बीच में एक बार झड़ी भी थी। आखिर वो समय आ गया, मेरी नसों का सारा खून एक जगह खींचता सा लगा, मैं बोल उठा- जान मेरा सब लूट लो आज ! लो मेरा गर्म पानी मेरी रानी…वाह…

मौसी को इसी का इन्तज़ार था जैसे !

अपने होंठों से उन्होंने मेरे होंठ भर लिए, टागें मेरी पीठ पर कस लीं.. मेरी पीठ को सहलाते हुए वो गीलेपन के उस एहसास को महसूस करने की कोशिश करने लगी जो बरसों के बाद उन्हें नसीब हुआ था।

मैं झड़ रहा था.. कतरा…कतरा… एक मादा के आगोश में…. एक ऐसे खुमार में जो उम्र और रिश्तों की हदों से परे था… सिर्फ उनके एक मदमस्त मादा होने का…


मौसी से सेक्स ज्ञान-2 bhabhi chudai, bhabhi ki, choot ki, chudai kahani, Chudai Stories, desi aunty, desi stories, Desi Story, story bhabhi - Sex Positions, Sunny Leone, True Story, सेक्स समस्या और निवारणaunty, stories, bhabhi, choot, chudai, nangi, stories, desi, aunty, bhabhi, erotic stories, chudai, chudai ki, hindi stories, urdu stories, bhabi, choot, desi stories, desi aunty, bhabhi ki, bhabhi chudai, desi story, story bhabhi, choot ki, chudai hindi, chudai kahani, chudai stories, bhabhi stories, chudai story, maa chudai, desi bhabhi, desi chudai, hindi bhabhi, aunty ki, aunty story, choot lund, chudai kahaniyan, aunty chudai, bahan chudai, behan chudai, bhabhi ko, hindi story chudai, sali chudai, urdu chudai, bhabhi ke, chudai ladki, chut chudai, desi kahani, beti chudai, bhabhi choda, bhai chudai, chachi chudai, desi choot, hindi kahani chudai, bhabhi ka, bhabi chudai, choot chudai, didi chudai, meri chudai, bhabhi choot, bhabhi kahani, biwi chudai, choot stories, desi chut, mast chudai, pehli chudai, bahen chudai, bhabhi boobs, bhabhi chut, bhabhi ke sath, desi ladki, hindi aunty, ma chudai, mummy chudai, nangi bhabhi, teacher chudai, bhabhi ne, bur chudai, choot kahani, desi bhabi, desi randi, lund chudai, lund stories, bhabhi bra, bhabhi doodh, choot story, chut stories, desi gaand, land choot, meri choot, nangi desi, randi chudai, bhabhi chudai stories, desi mast, hindi choot, mast stories, meri bhabhi, nangi chudai, suhagraat chudai, behan choot, kutte chudai, mast bhabhi, nangi aunty, nangi choot, papa chudai, desi phudi, gaand chudai, sali stories, aunty choot, bhabhi gaand, bhabhi lund, chachi stories, chudai ka maza, mummy stories, aunty doodh, aunty gaand, bhabhi ke saath, choda stories, choot urdu, choti stories, desi aurat, desi doodh, desi maa, phudi stories, desi mami, doodh stories, garam bhabhi, garam chudai, nangi stories, pyasi bhabhi, randi bhabhi, bhai bhabhi, desi bhai, desi lun, gaand choot, garam aunty, aunty ke sath, bhabhi chod, desi larki, desi mummy, gaand stories, apni stories, bhabhi maa, choti bhabhi, desi chachi, desi choda, meri aunty, randi choot, aunty ke saath, desi biwi, desi sali, randi stories, chod stories, desi phuddi, pyasi aunty, desi, chod, choti, randi, bahan, indiansexstories, kahani, mujhe, chachi, garam, desipapa, doodhwali, jawani, ladki, pehli, suhagraat, choda, nangi, behan, doodh, gaand, suhaag raat, aurat, chudi, phudi, larki, pyasi, bahen, saali, chodai, chodo, ke saath, nangi ladki, behen, desipapa stories, phuddi, desifantasy, teacher aunty, mami stories, mast aunty, choots, choti choot, garam choot, mari choot, pakistani choot, pyasi choot, mast choot, saali stories, choot ka maza, garam stories, , हिंदी कहानिया, ज़िप खोल, यौनोत्तेजना, मा बेटा, नगी, यौवन की प्या, एक फूल दो कलियां, घुसेड, ज़ोर ज़ोर, घुसाने की कोशिश, मौसी उसकी माँ, मस्ती कोठे की, पूनम कि रात, सहलाने लगे, लंबा और मोटा, भाई और बहन, अंकल की प्यास, अदला बदली काम, फाड़ देगा, कुवारी, देवर दीवाना, कमसीन, बहनों की अदला बदली, कोठे की मस्ती, पेलने लगा , चाचियाँ , असली मजा , तेल लगाया , सहलाते हुए कहा , पेन्टी , तेरी बहन , गन्दी कहानी, छोटी सी भूल, चचेरी बहन , आण्टी, kamuk kahaniya, सिसकने लगी , कामासूत्र , नहा रही थी , घुसेड दिया

मौसी से सेक्स ज्ञान-1

मित्रों काम ही इस संसार का नियामक तत्व है यही बाकी सभी क्रियाओं का मूल है और फ्रायड ने इसे सिद्ध भी किया है।

काम को न तो भाषा की जरूरत है ना काम किसी बंधन की परवाह करता है यह तो प्रकृति की अविरल धारा है जो कभी भी कहीं भी फूट सकती है।

मैं उस समय बीए सेकेंड ईयर में पढ़ता था, उम्र यही कोई अठारह साल थी। उस समय लण्ड का आकार सात इंच हो चुका था। तने होने पर पैंट के ऊपर से इसे साफ़ महसूस किया जा सकता था और सुबह के वक्त तो यह चड्डी को बिल्कुल तम्बू बना देता था इसीलिए मैं हमेशा चादर ले कर सोता था।

गर्मियों की बात थी, मेरी सगी मौसी मेरे घर आई हुई थी। मम्मी की सबसे छोटी बहन…. नाम है निम्मी।

मौसी की शादी पास के ही एक गाँव में हुई थी और मौसा जी खेती करते थे।

मौसी अक्सर किसी न किसी काम से लखनऊ आती थी तो वह हमारे घर जरूर आती थी। पर मैं पिछले कुछ महीनों से देख रहा था कि वो मम्मी से अकेले में बड़ी देर तक अपना दुःख सुनाती थी। मैंने उनको कहते हुए सुना था कि मौसा जी का गाँव की किसी विधवा औरत से चक्कर चल रहा था और वो मौसी में बिल्कुल रुचि नहीं लेते थे। वे अक्सर रात को खेत की रखवाली के बहाने उस औरत के घर पर पड़े रहते थे। मौसी अपनी 12 साल की बेटी के साथ अक्सर घर में अकेले रात बिताती थी।

सच में किसी के पति का लण्ड उसकी सूखी चूत को हरी करने की बजाये किसी गैर औरत की चूत में घुसे, यह उस औरत के लिए अपमान की बात है।

माँ के कहने से मौसी ने मौसा जी को बहुत समझाया, दुआ-तावीज़ भी कराया पर उल्टे कई बार मौसा ने उनकी पिटाई कर दी थी। अब तो मौसी ने जैसे हालात से समझौता कर लिया था, वो कई कई दिन हमारे घर रहती थी, गाँव से आती थी तो एक-आध दिन रुक कर ही जाती।

हाँ वो जब भी मुझे मिलती थी तो पकड़ कर गालों पर बहुत चुम्मी लेती थी, मेरा मुन्ना कह कर ! और मुझे उनकी साँसों की गंध ऐसी बुरी लगती कि मैं उनसे हाथ छुड़ा कर भागता- अरे मौसी, अब मैं बड़ा हो गया हूँ !

यह देख मेरी माँ हंस देती।

ऐसे ही गर्मी की वो रात थी, माँ, पिताजी और मेरा छोटा भाई छत पर खुली हवा में सोते थे, केवल मैं रात देर रात तक पढ़ाई के कारण नीचे सोता था। उस दिन भी देर

रात तक पढ़ कर मैं अपने कमरे में पड़े तख्त पर सो गया।

रात को अचानक मेरी नींद खुल गई जब मुझे लगा कि कोई मेरा हाथ पकड़ कर खींच रहा है। अँधेरे में मैं समझ गया कि यह मौसी थी वो मेरा हाथ खींच कर अपने चूचियों पर रख कर ऊपर से अपने हाथ से दबा रही थी। मेरे बदन में करेंट सा लगा। मौसी अपने ब्लाउज के बटन आगे से खोले थीं, उनके बड़े बड़े चुच्चे मेरी हथेलियों के नीचे थे, उस पर मौसी का हाथ था और वो अपने हाथ से मेरी हथेली दबा दबाकर अपने चुच्चे मसल रही थी और हल्के से कराह भी रही थी।

मेरे लण्ड में आंधी-तूफ़ान चलने लगा, मैं बंद आँख से भी मौसी की खूब गोल-गोल भरी भरी चूचियों को महसूस कर सकता था, कई बार ब्लाउज से आधी बाहर झांकती देख चुका था उनको !

पर आज जाने क्या को रहा था मुझे? कामवासना का भूत मेरे सर चढ़ चुका था। मन तो किया कि ऊपर चढ़ कर मैं खुद मौसी की चूचियों को रगड़ कर रख दूँ और उनकी टांगों को फैलाकर उनकी चूत का सारा रस पी लूँ और उनकी टांगें फैला कर बुर में ऐसा लण्ड पेलूँ कि वो वाह-वाह कर उठें औररात भर अपनी टांगें न मिला सकें। लेकिन मेरे मन में डर था कि कहीं मौसी इतना सब कुछ न करना चाहती हों और वो घर में सब को बता दें तो?

यही सोच कर मैं सोने का नाटक करने को मजबूर होकर तड़पता रहा। मौसी ने मेरे हाथों को पकड़ कर अपने चुच्चे खूब मसलवाये फिर मुझे पकड़ कर अपनी और घुमा लिया और मेरे ओंठों को अपने अपने होंठों में लेकर चूसना शुरू कर दिया।

मैं अभी भी आँखें बंद किये था, मेरा लण्ड झटके पर झटके खा रहा था मेरे लण्ड की हालत समुन्दर में प्यासे मगर्मच्छ के जैसी थी। तभी मौसी ने अपनी एक टांग उठा कर मेरे ऊपर ऐसे रखी कि मेरा लण्ड उनकी गर्म-गर्म रान के नीचे दब गया।

मैंने महसूस किया कि उनकी मैक्सी कमर तक ऊपर थी। जीवन में पहली बार इतनी चिकनी टांग मैंने अपनी टांग पर सटी हुई महसूस की, बहुत ही गर्म और केले की जैसे चिकनी बेहद नरम जांघें थी, शायद एक भी बाल नहीं होगा उन पर।

मेरे लण्ड का पानी छूटने को हो गया पर डर गया कि मौसी सब जान जायेंगी कि मैं जग रहा हूँ। मैंने पूरी ताकत लगा कर लण्ड को कंट्रोल में किया हुआ था।

अब मौसी की चूचियाँ मेरे सीने से रगड़ रही थी, मेरे होंठ उनके होंठों के बीच में थे, उनकी एक बांह मेरे ऊपर से होते हुई मेरी पीठ को सहला रही थी। मेरे कुंवारे लण्ड की अग्नि परीक्षा हो रही थी और मैं ससम्मान इसमें उत्तीर्ण होने का भरसक प्रयास कर रहा था।

अचानक मेरे ऊपर उनकी नंगी टांग और चढ़ गई। मैंने धधकती चूत की गर्मी को अपने लण्ड के बिल्कुल करीब महसूस किया। मुझे कहने में कोई शर्म नहीं कि जीवन में पहली चूत का स्पर्श मुझे मेरी मौसी जी ने दिया। मेरी चड्डी में खड़े लण्ड का लालच मौसी से रोका न गया वो मेरे सात इंच के लण्ड पर चड्डी के ऊपर से ही हाथ फिराने लगी थी और लण्ड पर हाथ रखते ही वो कराह उठीं जैसे उनके सारे जिस्म के दर्द की दवा उन्हें मिल गई हो।

मेरा दिल बड़े जोर से धधक-धड़क रहा था, मेरे लण्ड में फड़कन को मौसी ने बखूबी महसूस किया था इसीलिए उन्होंने मेरे फड़कते लण्ड को कस कर अपने हाथों में मजबूती से जकड़ लिया।

दोस्तो, यह मेरी सहनशीलता का चरम था। बड़ी बड़ी झांटों वाली गद्दीदार पाव रोटी जैसी बुर का गर्म एहसास अपनी जांघ पर पाकर बड़ी बड़ी चूचियों से सटे होकर एक औरत के हाथ में लण्ड कितनी देर बर्दाश्त करता। मैंने भी सारी शर्म त्याग दी और चड्डी के अन्दर ही मौसी के हाथों में कसे कसे लण्ड ने पूरी धार से पानी छोड़ दिया। मैं ऊँ ऊ ऊं.. करके उनकी बाहों में एक बार मचला, फिर शांत हो कर लण्ड को आख़िरी बूँद तक झड़ने देता रहा।

मौसी अभी यही समझ रहीं थीं कि मैं उत्तेजित होकर नींद में ही झड़ा हूँ। उन्होंने मेरा लण्ड कस कर पकड़े रखा जब तक मैं पूरा झड़ नहीं गया। उनका हाथ चड्डी के ऊपर से गीला हो चुका था, मैंने अपनी जांघ पर उनकी चूत का गीलापन साफ़ महसूस किया वो भी झड़ चुकी थी। अपने हाथ में लगे मेरे लण्ड के पानी को चाट रही थी वो ! चुद तो नहीं सकी थी पर एक युवा मर्द के संपूर्ण अंगों से खेलने का सुख शायद उनको बहुत समय बाद मिला था।

वो बिस्तर पर मेरा किसी औरत के स्पर्श का पहला अनुभव था और औरत के जिस्म का सही पहला सुख…

मैं मौसी को उस रात चोद तो न सका, शायद अनाड़ीपन और शर्म के कारण ! पर अपने कसरती जिस्म का जो चस्का मैंने मौसी जी को लगा दिया था उससे मुझे पता था कि आने वाली सैकड़ों रातों में वो मेरे बिस्तर पर खुद आने वाली थी और मैंने भी सोच लिया था कि मौसी की सालों से बंजर पड़ी चूत के खेत में अपने लण्ड से न सिर्फ कस कर जुताई करनी थी बल्कि खाद पानी से उसे फिर से हरा भरा करना था।

मौसी को कस कर पेलने का अरमान दिल में लिए मैं गीली चड्डी में चिपचिपेपन को बर्दाश्त करता हुआ सो गया।

अगले दिन सुबह मौसी मेरे साथ इस तरह सामान्य थी जैसी रात में कुछ हुआ ही न हो।

मैं शुरू में तो उनसे आँख चुरा रहा था पर उनका बर्ताव देख कर मैं भी कुछ सामान्य हो गया पर..


मौसी से सेक्स ज्ञान-1 bhabhi, bhabi, choot, chudai, chudai ki, Desi, hindi stories, nangi, stories, Urdu Stories - Sex Positions, सेक्स समस्या और निवारणaunty, stories, bhabhi, choot, chudai, nangi, stories, desi, aunty, bhabhi, erotic stories, chudai, chudai ki, hindi stories, urdu stories, bhabi, choot, desi stories, desi aunty, bhabhi ki, bhabhi chudai, desi story, story bhabhi, choot ki, chudai hindi, chudai kahani, chudai stories, bhabhi stories, chudai story, maa chudai, desi bhabhi, desi chudai, hindi bhabhi, aunty ki, aunty story, choot lund, chudai kahaniyan, aunty chudai, bahan chudai, behan chudai, bhabhi ko, hindi story chudai, sali chudai, urdu chudai, bhabhi ke, chudai ladki, chut chudai, desi kahani, beti chudai, bhabhi choda, bhai chudai, chachi chudai, desi choot, hindi kahani chudai, bhabhi ka, bhabi chudai, choot chudai, didi chudai, meri chudai, bhabhi choot, bhabhi kahani, biwi chudai, choot stories, desi chut, mast chudai, pehli chudai, bahen chudai, bhabhi boobs, bhabhi chut, bhabhi ke sath, desi ladki, hindi aunty, ma chudai, mummy chudai, nangi bhabhi, teacher chudai, bhabhi ne, bur chudai, choot kahani, desi bhabi, desi randi, lund chudai, lund stories, bhabhi bra, bhabhi doodh, choot story, chut stories, desi gaand, land choot, meri choot, nangi desi, randi chudai, bhabhi chudai stories, desi mast, hindi choot, mast stories, meri bhabhi, nangi chudai, suhagraat chudai, behan choot, kutte chudai, mast bhabhi, nangi aunty, nangi choot, papa chudai, desi phudi, gaand chudai, sali stories, aunty choot, bhabhi gaand, bhabhi lund, chachi stories, chudai ka maza, mummy stories, aunty doodh, aunty gaand, bhabhi ke saath, choda stories, choot urdu, choti stories, desi aurat, desi doodh, desi maa, phudi stories, desi mami, doodh stories, garam bhabhi, garam chudai, nangi stories, pyasi bhabhi, randi bhabhi, bhai bhabhi, desi bhai, desi lun, gaand choot, garam aunty, aunty ke sath, bhabhi chod, desi larki, desi mummy, gaand stories, apni stories, bhabhi maa, choti bhabhi, desi chachi, desi choda, meri aunty, randi choot, aunty ke saath, desi biwi, desi sali, randi stories, chod stories, desi phuddi, pyasi aunty, desi, chod, choti, randi, bahan, indiansexstories, kahani, mujhe, chachi, garam, desipapa, doodhwali, jawani, ladki, pehli, suhagraat, choda, nangi, behan, doodh, gaand, suhaag raat, aurat, chudi, phudi, larki, pyasi, bahen, saali, chodai, chodo, ke saath, nangi ladki, behen, desipapa stories, phuddi, desifantasy, teacher aunty, mami stories, mast aunty, choots, choti choot, garam choot, mari choot, pakistani choot, pyasi choot, mast choot, saali stories, choot ka maza, garam stories, , हिंदी कहानिया, ज़िप खोल, यौनोत्तेजना, मा बेटा, नगी, यौवन की प्या, एक फूल दो कलियां, घुसेड, ज़ोर ज़ोर, घुसाने की कोशिश, मौसी उसकी माँ, मस्ती कोठे की, पूनम कि रात, सहलाने लगे, लंबा और मोटा, भाई और बहन, अंकल की प्यास, अदला बदली काम, फाड़ देगा, कुवारी, देवर दीवाना, कमसीन, बहनों की अदला बदली, कोठे की मस्ती, पेलने लगा , चाचियाँ , असली मजा , तेल लगाया , सहलाते हुए कहा , पेन्टी , तेरी बहन , गन्दी कहानी, छोटी सी भूल, चचेरी बहन , आण्टी, kamuk kahaniya, सिसकने लगी , कामासूत्र , नहा रही थी , घुसेड दिया

ज़न्नत की ज़न्नत-4

अब आगे :

रसोई में मैंने खाना बनाया और जब बाहर निकली तो देखा कि पंकज नहाने के बाद नंगा ही जाकर बिस्तर पर सो गया है और उसका सोया हुआ लण्ड दोनों पैरों के बीच सुस्त पड़ा हुआ है।

एक बार तो मैं पंकज का लण्ड देख कर मचल गई लेकिन मैंने अपने आप को रोक लिया क्योंकि कल रात से पंकज बहुत ज़्यादा मेहनत कर चुका है और मेरी चूत और गाण्ड भी चुदते-चुदते चसक रही थी।

मैं पंकज को छोड़ कर अपने कमरे गई और थोड़ी देर में नहा धोकर रसोई में जाकर अपने और पंकज के लिए खाना लगाया और तब जाकर मैंने पंकज को जगाया।

पंकज उठ कर खाना खाने के बाद फिर मुझे बिस्तर पर ले कर मुझसे लिपट कर सो गया और मैं भी पंकज की बाँहों में सो गई।

रात में एक बार मैं पेशाब करने के लिए उठी तो देखा कि पंकज मेरे बगल में नंगा लेटा हुआ है और उसका एक हाथ मेरी चूची पर है।

मैंने धीरे से पंकज का हाथ अपनी चूची पर से हटाया और नंगी ही बाथरूम चली गई। बाथरूम से जब आई तो देखा कि पंकज की आँख भी खुली हुई है और वो अपने हाथों से अपना लण्ड मसल रहा है।

जैसे ही मैं पंकज के बगल फिर से लेटी तो पंकज ने मुझे फिर से अपने बाँहों में जकड़ लिया और हम लोग एक बार फिर से ज़ोरदार चुदाई कर के सो गए।

सुबह ज़न्नत का फ़ोन आया कि पंकज और मैं लंच पर उसके घर नरेन और ज़न्नत से मिलें।

मैं और पंकज मेरे घर गए, वहाँ पर ज़न्नत ने बड़ा अच्छा खाना बना कर रखा हुआ था। हम सबने पहले थोड़ी ड्रिंक्स ली और फिर आराम से खाना खाया। खाने के बाद सब मेरे ड्राइंग रूम में आए और अपने-अपने कपड़े निकाल दिए, मैं पंकज की गोद में और ज़न्नत नरेन की गोद में बैठ गई।

नरेन और पंकज फिर हम दोनों के नंगे शरीर से खेलने लगे।

हम सब के हाथों में अपनी अपनी ड्रिंक्स थी। तब पंकज ने नरेन से पूछा- नरेन, तुम्हें ज़न्नत के साथ अकेले कैसा लगा?

नरेन ने कहा- ज़न्नत को अकेले चोदने तो मज़ा आ गया पंकज, पर जानते हो कि कल जिस चीज़ ने मुझे सबसे ज़्यादा उत्तेजित किया वो था अपनी आँखों के सामने विभा को तुम से चुदवाते हुए देखना। वाकयी तुम्हारे लंबे लण्ड को विभा की चूत में बार-बार अन्दर-बाहर जाते हुए देख कर मज़ा आ गया।

पंकज बोला- मुझे भी कल रात विभा को अकेले चोदने में बड़ा मज़ा आया, पर नरेन, सच कहो तो मुझे भी तुम को अपने सामने ज़न्नत को चोदते देख कर और साथ-साथ विभा को तुम्हारे और ज़न्नत के सामने उसी बिस्तर पर चोद कर जो मज़ा आया वह मैं बता नहीं सकता।

बाद में नरेन ने बताया कि उसने भी ज़न्नत को घर ले जा कर रात भर उसको पूरा मज़ा दिया। ज़न्नत को अपने घर ले जाने के बाद नरेन नंगे होकर बिस्तर पर लेट गया।

फिर उसने ज़न्नत से उसे जी भर के मज़ा देने को कहा। ज़न्नत भी नंगे हो कर बिस्तर पर आई और नरेन के लण्ड अपने हाथ में लेकर चूसने लगी।

फिर नरेन ने ज़न्नत को अपने ऊपर उल्टा लेट कर अपनी चूत को नरेन के मुँह के ऊपर रखने को कहा।

ज़न्नत नरेन के ऊपर उल्टा लेट गई, नरेन ज़न्नत की चूत को और ज़न्नत नरेन के लण्ड को चूसने लगी।

नरेन की आँखों के सामने ज़न्नत के गोरे-गोरे चूतड़ नज़र आ रहे थे और नरेन को ज़न्नत की चूत और गुलाबी गाण्ड साफ दिखाई दे रही थी।

नरेन ज़न्नत के दोनों चूतड़ों को अपने दोनों हाथों से पकड़ कर सहलाने लगा और अपनी जीभ से ज़न्नत की चूत चाटने लगा।

चूत चाटते-चाटते नरेन की ज़बान ज़न्नत की गाण्ड पर चली गई और नरेन ज़न्नत की गुलाबी गाण्ड को अपनी जीभ से चाटने लगा। फिर उसके बाद नरेन अपनी जीभ को बारी-बारी से ज़न्नत की चूत और गाण्ड के अन्दर-बाहर करके ज़न्नत की चूत और गाण्ड दोनों को अपनी जीभ से चोदने लगा।

इधर ज़न्नत नरेन का लण्ड बड़े आराम से चूस रही थी और थोड़ी देर में ही नरेन का लण्ड तन्ना कर खड़ा हो गया। ज़न्नत भी नरेन की जीभ से अपनी चूत और गाण्ड दोनों को चुदवा कर अब नरेन के लण्ड से चुदाई करवाने के लिए उत्तेजित हो चुकी थी।

तब ज़न्नत ने नरेन को अपने ऊपर लेकर उसके लण्ड को अपनी चूत में डाल कर ऊपर से चोदने को कहा।

लेकिन नरेन ने कहा- तुम मेरे ऊपर आ जाओ।

तो ज़न्नत नरेन के ऊपर चढ़ गई और उसके लण्ड को अपनी चूत में डाल कर धीरे-धीरे धक्के लगा कर चोदने लगी। थोड़ी देर इस तरह से ज़न्नत ने नरेन को ऊपर से चोदा।

फिर नरेन ने कहा- ज़न्नत, मुझे तुम्हारे चूतड़ बहुत अच्छे लगते हैं और अगर तुम्हें सचमुच मुझे मज़ा देना चाहती हो तो आज मैं तुम्हारी गाण्ड मार कर मज़ा लेना चाहता हूँ।

ज़न्नत बोली- नरेन, आज तुम जो चाहो वो मज़ा मेरे साथ ले सकते हो। मैंने पंकज से एक-दो बार गाण्ड मरवाई है पर तुम्हारा लण्ड तो बहुत मोटा है अन्दर कैसे जाएगा?

नरेन ने कहा- रानी, इसकी चिंता मुझ पर छोड़ दो… पहले मैं तुम्हारी गाण्ड को अपनी जीभ से चाट कर गीली कर दूँगा, फिर अपना लण्ड उसमें घुसेड़ कर आराम से मैं तुम्हारी गाण्ड मारूँगा।

ज़न्नत ने कहा- ठीक है..

और वो बिस्तर पर घोड़ी की तरह अपनी गाण्ड ऊपर करके लेट गई, नरेन ने ज़न्नत की गाण्ड खोल कर अपनी जीभ ज़न्नत की गाण्ड के छेद पर लगा कर उसको चाटने लगा।

थोड़ी देर ज़न्नत की गाण्ड को चाट कर नरेन ने उसे खूब गीली कर दिया और फिर ज़न्नत से अपने लण्ड को एक बार और चूस कर गीला करने को कहा। ज़न्नत ने नरेन के लण्ड को थोड़ा चाट कर और अपना थूक लगा कर खूब गीला कर दिया पर नरेन ज़न्नत की गाण्ड मारने से पहले थोड़ी देर उसकी चूत चोदना चाहता था।

नरेन ने अपने लण्ड को ज़न्नत की चूत में लगा कर एक ही धक्के में पूरा लण्ड उसकी चूत के अन्दर घुसा दिया। ऐसे थोड़ी देर तक नरेन ने ज़न्नत की चूत को चोदा। चूत में जाने से नरेन का लण्ड और भी गीला हो गया।

फिर नरेन ने अपने लण्ड को पकड़ कर ज़न्नत की गाण्ड के छेद पर लगाया और थोड़े ही दबाव से में आधा लण्ड अन्दर घुसेड़ दिया।

नरेन ने एक धक्का और दिया और बड़े आराम से नरेन का लण्ड ज़न्नत की गाण्ड में पूरा चला गया।

नरेन का लण्ड मोटा ज़रूर था, पर ज़न्नत की गाण्ड भी खूब गीली हो चुकी थी और ज़न्नत को अपनी गाण्ड में नरेन का पूरा लण्ड लेने में कोई परेशानी नहीं हुई।

फिर नरेन ने ज़न्नत के दोनों चूतड़ों को अपने दोनों हाथों से पकड़ लिया और उसकी गाण्ड में अपना लण्ड धीरे-धीरे अन्दर-बाहर करके चोदने लगा।

इस तरह से नरेन ने ज़न्नत की गाण्ड को जी भर के मारा और फिर उसके गोरे-गोरे चूतड़ों पर अपना पानी निकाल दिया।

ज़न्नत पूरी तरह से नरेन की चुदाई से खुश होकर बिस्तर पर पीठ के बल लेट गई, नरेन ने अपने पानी को तौलिए से पौंछ कर ज़न्नत के चूतड़ों को साफ किया और फिर ज़न्नत के ऊपर ही नंगा लेट कर उसको अपनी बाँहों में ले कर सो गया।


नरेन ने कहा- पंकज, हमारी पहली बीवियों की अदला-बदली चुदाई बड़ी जल्दबाजी में हुई थी, अगर तुम बुरा ना मानो तो मैं एक बार फिर तुम्हें विभा को चोदते हुए देखना चाहता हूँ।

पंकज बोला- मैं भी ज़न्नत को एक बार फिर तुमसे चुदवाते हुए देखना चाहता हूँ।

इन बातों से दोनों के लंड दोबारा तन्ना गए।

नरेन ने बेडरूम में चलने की सलाह दी और कहा- वहीं पर हम एक-दूसरे की बीवियों को चोदेंगे।

हम अपनी ड्रिंक लेकर बेडरूम में आ गए और उसी बिस्तर पर नंगे ही बैठ कर चुस्कियाँ लेने लगे। कमरे में रोशनी भरपूर थी। नरेन ने पंकज से पहले मुझे चोदने को कहा। मैंने नरेन से मुझे चुदाई के लिए तैयार करने के लिए मेरी चूत चाटने को कहा।

नरेन ने फ़ौरन मेरी इच्छा का सम्मान किया और मेरी चूत बड़े प्यार से चाटने लगा।

साथ ही ज़न्नत भी पंकज को उसका लंड चूस कर उसे भी तैयार करने लगी।

मैं बिस्तर पर अपने दोनों जाँघें फैलाकर लेट गई, मेरी सपाट चिकनी खुली चूत पंकज के लंबे लौड़े का आघात सहने को अब पनिया चुकी थी।

पंकज मेरे ऊपर आ गया और अपने लंड को मेरी चूत के मुँह पर लगा दिया।

तब मैंने ज़न्नत से कहा, “अगर वो बुरा ना माने तो क्या वो अपने हाथों से पंकज के लंड को मेरी चूत में डाल सकती है।”

ज़न्नत सहर्ष तैयार हो गई और अपने पति के लौड़े को अपने हाथ में लेकर मेरी चूत में डाल दिया, पंकज ने मुझे चोदना शुरू कर दिया।ज़न्नत और मेरे पति हमारे पास ही बैठ कर पंकज के लंबे लंड को मेरी चूत की सैर करने के दृश्य का आनन्द उठाने लगे।

उन दोनों ने मेरे हाथ थाम लिए और मेरे पूरे शरीर और मेरी चूचियों को सहलाने लगे। मैं अपने हाथों से ज़न्नत की चूचियों और नरेन के लंड को भी सहलाने लगी।

पंकज इस सबसे जैसे बेख़बर होकर बेरोकटोक मेरी चूत की चुदाई में लगा रहा। पंकज मुझे लगभग 25-30 मिनट तक ज़ोर-ज़ोर से चोदता रहा और मेरे पेट पर अपना पानी निकाल दिया। ज़न्नत ने उसका रस अपनी साड़ी से पौंछ दिया।

मेरे पति ने मुझे एक प्यारी मुस्कान के साथ मेरी चूत को एक प्यार भरी चुम्मी दी।

मैंने भी उसका लंड दबा कर उसके होंठों पर चुम्मी देकर बड़े प्यार से उसको धन्यवाद किया।

अब ज़न्नत की बारी थी। वो बिस्तर पर लेट गई। पंकज ने उसकी चूत चाट कर उसे तैयार किया और मैंने नरेन का लंड चूस कर उसे ज़न्नत को चोदने के लिए तैयार किया।

ज़न्नत ने भी मुझसे अपने पति का लंड उसकी चूत में डालने की फरमाइश की, जो मैंने खुशी से पूरी कर दी।

मेरे पति ने हमारे सामने ज़न्नत की चुदाई शुरू कर दी। पंकज और मैं उन दोनों के पास ही बैठ गए और उनके खेल का आनन्द उठाने लगे।

पंकज और मैंने ज़न्नत के हाथ थाम लिए और उसके जिस्म, सिर, चूचियों और पेट को प्यार से सहलाने लगे। ज़न्नत भी मेरी चूचियों और पंकज के लंड से खेलने लगी और नरेन बेधड़क उसकी चुदाई किए जा रहा था। वाह, क्या सीन था…!

नरेन की ज़न्नत के साथ 15-20 मिनट की घनघोर चुदाई के बाद पंकज बोला- नरेन, अब मैं तुम्हें ज़न्नत की गाण्ड मारते हुए देखना चाहता हूँ।

नरेन ने कहा- ठीक है..!

और ज़न्नत से घोड़ी वाले आसान में बिस्तर पर लेट जाने को कहा। ज़न्नत उकडूँ होकर बिस्तर पर लेट गई और पंकज ने अपने दोनों हाथों से उसके दोनों चूतड़ों को फैला कर नरेन के सामने ज़न्नत की गाण्ड खोल दी।

फिर मैंने नरेन के लंड को अपने हाथ में पकड़ कर ज़न्नत की गाण्ड के छेद में लगा दिया। नरेन धीरे धीरे अपना लौड़ा ज़न्नत की गाण्ड में घुसाने लगा, फ़िर जब पूरा लौड़ा अन्दर घुस गया तो जल्दी-जल्दी अन्दर-बाहर करके चोदने लगा।

ज़न्नत को भी नरेन से अपनी गाण्ड मरवा कर बड़ा मज़ा आ रहा था।

इस तरह से नरेन ने मेरे और पंकज के सामने 15-20 मिनट तक खूब ज़ोर-ज़ोर से ज़न्नत की गाण्ड को चोदा और फिर अपना रस ज़न्नत के गोरे-गोरे बड़े-बड़े चूतड़ों पर बरसा दिया। फिर मैंने अपनी साड़ी से पौंछ कर ज़न्नत के चूतड़ों को साफ कर दिया।

इस तरह से दोनों जोड़ो ने एक-दूसरे के जीवन-साथी के जिस्म का खुल कर खूब आनन्द लिया।

अपने अपने जीवन साथी को एक-दूसरे के जीवन साथी के साथ आमने-सामने बहुत पास से चुदवाते हुए देखने का आनन्द उठाया। उस दिन हम चारों को बीवियों को अदल-बदल कर चुदाई में खूब मज़ा आया।

उसके बाद हम लोगों ने फिर थोड़ा विश्राम किया, कुछ खाया-पिया, कुछ देर ऐसे ही छुट-पुट बातें कीं। बाद में हमने ये निर्णय किया कि रात में पंकज और नरेन दोनों एक साथ ज़न्नत को और फिर दोनों मुझे एक साथ चोदेंगे।

ज़न्नत और मैंने मिल कर नरेन और पंकज को उनके लंड चूस कर अपने दोनों के लिए तैयार किया। उसके बाद नरेन और पंकज ने मिल कर ज़न्नत और फिर मुझे बारी-बारी से चोदा।

उन्होंने पहले मुझे चोदा, तो ज़न्नत उसी बिस्तर पर बैठकर मुझे चुदते देखती रही। पंकज ने मुझे घोड़ी वाले आसन में चोदा, तब मैं नरेन का लंड चूसती रही।

फिर मेरे देखते-देखते उन दोनों ने ज़न्नत की चुदाई की, नरेन ने उसे चोदा और ज़न्नत ने अपने पति का लंड चूसा।

उसके बाद तो उन दोनों ने मुझे और ज़न्नत को एक साथ बिस्तर पर लेट जाने को कहा और फिर वहाँ दोनों हम दोनों को बारी-बारी से चोदने लगे।

पहले पंकज मुझे थोड़ी देर चोदता, फिर जाकर ज़न्नत को थोड़ी देर चोदता।

इसी तरह नरेन ने पहले ज़न्नत को थोड़ी देर चोदा, फिर आकर मुझको को थोड़ी देर चोदा और फिर एक के बाद एक पंकज और नरेन अदल-बदल कर मुझे और ज़न्नत को एक साथ सारी रात चोदते रहे जब तक कि नरेन ज़न्नत के मखमली चिकने चूतड़ों पर और पंकज मेरी नाभि के ऊपर ना झड़ गया।

उसके बाद हम सबने अपनी पहली चौतरफ़ा चुदाई की ही बातें कीं। हम सब को जिस बात ने सबसे ज़्यादा रोमांचित किया था वो ये नहीं था कि हमने किसी और को चोदा था, बल्कि एक ही बिस्तर पर चार-चार लोगों ने मिल कर एक साथ चुदाई लीला की..

अपने जीवन साथी को अपनी आँखों के सामने दूसरे को चोदते हुए देखने का भी एक अजीब रोमांच है जब कि खुद भी दूसरे के जीवन साथी के साथ उसी बिस्तर पर अपने जीवन साथी के सामने ही चुदाई कर रहे हों।

अपने इस पहले अनुभव के पूर्व मुझे अहसास नहीं था कि मैं नरेन को किसी अन्य स्त्री को चोदते देख कर कैसा महसूस करूँगी और मैं अपने आप को किस तरह से इस बात के लिए तैयार करूँगी कि मैं नरेन के सामने किसी और आदमी से चुदवा सकूँ।

पहले तो मैं यही सोचती थी कि नरेन मुझे दूसरे मर्दों से इसलिए चुदवाने दे रहा था ताकि वो उनकी बीवियों को उन्मुक्त हो कर चोद सके।

धीरे-धीरे मैंने यह पाया दूसरे जोड़ों के साथ बीवी अदल-बदल कर चुदाई करने में वाकयी बड़ा आनन्द आता है।

अब ना कि केवल मुझे नए आदमियों से चुदवाने में बड़ा आनन्द आने लगा, बल्कि नरेन को दूसरी स्त्री को चोदते देख कर भी मुझे बड़ा मज़ा आने लगा।

जब मेरा पति नरेन किसी औरत को बेरोक-टोक 20-30 मिनट तक लंबे करारे धक्के मार कर अपने मोटे लंड से ज़ोर-ज़ोर से चोदता है तो मुझे उस औरत के चेहरे पर चुदाई का आनन्द और वासना की संतुष्टि के सुंदर भाव देखने में बहुत मज़ा आता है।

नरेन भी इन औरतों को चोदने के साथ-साथ मुझे अपने सामने दूसरे आदमियों से चुदवाते हुए देख कर बहुत उत्तेजित होता है।

हालाँकि पहले मैं काफ़ी संकोच करती थी, पर अब मुझे लगता है कि अगर जीवन में चुदाई का भरपूर मज़ा लेना हो तो सामूहिक चुदाई के अलावा और कोई ऐसा तरीका नहीं है जिसमें कि पत्नी को गैर-मर्दों से चुदवाने का मज़ा लेने के लिए अपने पति से कुछ छिपाना नहीं पड़ता है और उनका पति भी बिना अपनी पत्नी से कुछ छिपाए दूसरी औरतों को अपनी पत्नी के सामने बड़े आराम से चोद सकता है।

ना किसी से कोई गिला, ना शिकवा, ना चोरी, ना बेईमानी, सिर्फ़ असली चुदाई का मज़ा, साथ-साथ एक-दूसरे के आमने-सामने चुदाई के आनन्द के दरिया में गोते लगाते का सुख लेते हैं।


ज़न्नत की ज़न्नत-4 Anubhav, Aur, Chut, Divorce, Intezaar, Lamba, Malish, Panty, Pyar, Saal - Hindi Sex Stories

ज़न्नत की ज़न्नत-3

अब आगे :

पंकज ने जी भर के मेरे चूतड़ों को अपने हाथ से फैला कर, उनके अन्दर अपनी जीभ डाल कर खूब चूमा और चाटा।

फिर मैंने पंकज को मेरी पीछे से चूत के आस-पास चूमने को कहा, मैंने पंकज को अपनी जीभ से मेरी चूत को धीरे-धीरे चाटने को कहा।

पंकज बड़े आराम से मेरी चूत चाटने लगा।

थोड़ी देर चूत चटवाने के बाद मेरी चूत पानी छोड़ दिया और मैंने पंकज को अपनी बाँहों में जकड़ लिया।

इसके बाद मैंने पंकज को मेरे ऊपर चढ़ा कर अपना लंड मेरे मुँह के अन्दर डालने को कहा।

पंकज ने अपना लंड मेरे मुँह में घुसेड़ दिया और मैं पंकज का लौड़ा बड़े आराम से अपने हाथों से पकड़ कर चूसने लगी।

मैं जैसे-जैसे पंकज का लंड चाट और चूस रही थी, वैसे-वैसे उसके लंड ने अकड़ना शुरू कर दिया।

पंकज अपने हाथों से मेरी चूचियों को ज़ोर-ज़ोर से मसलने लगा।

थोड़ी देर में ही मेरे चूसने से पंकज का लंड तन्ना कर खड़ा हो गया..!

जब पंकज का लंड पूरा का पूरा तन गया तो उसने मुझसे बोला- अरे मेरी लंड की रानी, अब तो छोड़ दो मेरे लंड को… मुझे अब तुम्हारी चूत में अपना लंड पेलना और तुम्हें चोदना है… देखो ना मेरा लंड अकड़ कैसे खड़ा हो गया है.. यह अब तुम्हारी चूत में घुसना चाहता है… चलो अब चूत चुदवाने के लिए तैयार हो जाओ।

पंकज का बात सुन कर मैं पंकज का लण्ड अपने मुँह से निकाल कर पंकज से बोली- हाय मेरी चूत के राजा, जैसे तुम्हारा लौड़ा तन कर खड़ा हुआ है, वैसे ही मेरी चूत भी लंड खाने के लिए अपनी लार छोड़ रही है। मेरी चूत बहुत गीली हो गई है, अब मैं भी तुमसे अपनी चूत चुदवाना चाहती हूँ। चलो अब जल्दी से अपना यह मोटा सा डंडा मेरी चूत में घुसेड़ो और चूत को चोद-चोद कर फाड़ दो।

पंकज मेरी बातों को सुन कर मेरे ऊपर से नीचे उतर गया और मेरी टाँगों के बीच बैठ गया। टाँगों के बीच बैठने के बाद पंकज ने मेरी टाँगों को अपने हाथों से खोल कर मेरी चूत को खोला और अपना लंड मेरी चूत के दरवाजे पर रख कर एक धक्के से पूरा का पूरा लंड चूत के अन्दर घुसेड़ दिया।

मैंने भी अपनी टाँगों को जितना हो सका, खोल कर पंकज का लंड अपनी चूत में ले लिया, लेकिन पंकज के धक्के के साथ साथ मेरे मुँह से एक हल्की सी चीख निकल गई।

पंकज ने मेरी चीख सुन कर के पूछा- क्या हुआ, विभा तुम्हारी चुदी-चुदाई चूत क्या फिर से फट गई? अरे अभी तो सिर्फ़ लंड चूत के अन्दर डाला है, अभी तो पूरी चुदाई बाकी है और तुम अभी से चीख रही हो?

मैं पंकज की बातों को सुन कर बोली- साले हरामी चूत के पिस्सू, ऐसे धक्का मारा जाता है? चुदक्कड़ बीवी के चोदू खसम, अबे यह तेरी बीवी की चूत नहीं है, कि जैसे मर्ज़ी चोद रहा है… साले आराम-आराम से चोद..!

फिर मैंने पंकज से प्यार से बोली- पंकज, ऐसे नहीं, धीरे-धीरे, अपने लंड को मेरी चूत से पूरा बाहर निकाले बिना, हल्के-हल्के धक्के मार कर, जी भर के सारी रात चोद कर मुझे मज़ा दो। ऐसे जल्दी-जल्दी से चोदने से क्या फायदा? तुम जल्दी झड़ जाओगे और मुझे भी मज़ा नहीं मिलेगा।

अब पंकज मुझे धीरे-धीरे चोदने लगा। थोड़ी देर तक धीरे-धीरे चोदने के बाद पंकज ने मेरी टाँगें पकड़ कर ऊपर फैला लीं और अपने लंड को मेरी चूत से पहले आधा निकालता फिर उसको मेरी चूत के अन्दर घुसेड़ देता।

मुझे इस धीमी चुदाई से बहुत मज़ा मिल रहा था। मैं पंकज की कमर को अपने पैरों से पकड़ कर उसको अपनी चूचियों से चिपका लिया और अपनी कमर उठा-उठा कर पंकज का लंड अपनी चूत में पिलवाने लगी।

पंकज की इस धीमी चुदाई से मेरी चूत अब तक तीन बार पानी छोड़ चुकी थी, लेकिन चूत और चुदना चाहती थी।

थोड़ी देर पंकज मुझे धीरे-धीरे चोदने के बाद मुझसे से बोला- मेरी रानी, अब बहुत हो गया है.. अब मुझे ज़ोर-ज़ोर से चोदने दो। वैसे ज़न्नत को मैं तो रोज़ ज़ोर-ज़ोर से चोदता हूँ और ज़न्नत भी चुदते-चुदते ज़ोर-ज़ोर से चोदने के लिए बोलती है। अब तुम अपनी चूत संभालो और मैं तेज़ी से चोदता हूँ।

इतना कहने के बाद पंकज ने मेरी दोनों चूचियों को अपने हाथों से कस कर पकड़ लिया और अपनी कमर तेज़ी से उठा-उठा कर मुझे चोदने लगा।

अब मैं भी बहुत गर्म हो गई थी और मैंने भी पंकज को अपने दोनों हाथों और दोनों पैरों से पकड़ कर उससे चिपक कर पंकज की चुदाई का मज़ा लेने लगी।

थोड़ी देर मेरी चूत में लंड तेज़ी से पेलने के बाद पंकज का लंड मेरी चूत के अन्दर ठुमका मारने लगा और मैं समझ गई कि अब पंकज झड़ने वाला है।

वैसे मैं भी अब झड़ने वाली थी।

मैंने पंकज का मुँह खींच कर अपने चूचियों पर सटाते हुए पंकज से बोली- पंकज, जल्दी से तुम मेरी चूची चूसते हुए मुझे चोदो, मैं भी अब झड़ने वाली हूँ। चूची चुसवाते हुए चुदने से मैं बहुत जल्दी झड़ूँगी।

पंकज झट से मेरी एक चूची को अपने मुँह में ले लिया और चूसने लगा।

मैं भी अपनी चूतड़ उचका-उचका कर पंकज के लंड से चुदवाने लगी।

थोड़ी देर में पंकज ने लंड तेज़ी से मेरी चूत में अन्दर तक पेल कर पानी छोड़ दिया और मेरी चूत को अपने पानी से भर दिया।

मैंने भी उसी समय अपनी चूत का पानी पंकज के लंड के ऊपर छोड़ दिया।

हम लोग इस चुदाई से बहुत ही थक गए थे और बिना चूत से लंड निकाले एक-दूसरे को अपने से चिपका कर सो गए।

सुबह जब आँख खुली तो देखा कि पंकज मेरी बगल में नंग-धड़ंग सो रहा है और मैं भी बिल्कुल नंगी हूँ।

पहले तो मैं चौंक गई फिर बाद में बीती रात की सारी घटना याद आई और मैं एक बार के लिए शरमा गई।

फिर मैंने गौर से पंकज को देखा, सुबह होने पर भी उसका लंड फिर से खड़ा हो कर हवा में झूम रहा है। उस समय पंकज के लौड़े का सुपारा पूरी तरह से खुला हुआ था और बिल्कुल टमाटर की तरह लाल था।

मैं पंकज के लंड का ऐसा मस्त नज़ारा देख कर अपने आप को रोक नहीं पाई और बैठ कर उस लंड को अपने हाथों से पकड़ अपने मुँह से आगे लगा लिया।

मुँह से लगते ही पंकज का लंड और भी अकड़ गया।

मुझे पंकज के लंड से अपनी चूत की महक आ रही थी।

मैंने पंकज का लंड अपने मुँह में भर लिया और उसे चूसने लगी।

पंकज की आँख खुल गई और उसने अपने हाथों से मुझे जकड़ लिया और मुझे अपने ऊपर खींच कर मुझे बेतहाशा चूमने लगा।

थोड़ी देर चूमने के बाद पंकज ने मेरी नंगी चूचों से खेलने लगा और उन्हें चूसने लगा।

फिर पंकज ने मुझसे बोला- रानी, मुझे तुम्हारा नींद से जगाने का यह अंदाज़ बहुत पसंद आया। चलो अब हम तुम अब 69 की पोजीशन में एक-दूसरे के चूत और लंड चूसते हैं।

मैं झट बिस्तर पर फिर से लेट गई और पंकज उठ कर मेरे पैरों की तरफ अपना सर करके लेट गया। पहले पंकज मेरी चूत से थोड़ा खेला और फिर ऊपर चढ़ करके मेरी चूत चाटने लगा।

मैं भी पंकज का लंड अपने हाथों से पकड़ कर चूसने लगी।

थोड़ी देर तक मैं और पंकज एक-दूसरे का लंड और चूत चाटते और चूसते रहे। फिर वो मेरे ऊपर से उठ गया और मुझे अपने पेट के बल लेटने के लिए बोला।

मैंने फ़ौरन पंकज से पूछा- क्यों? सुबह सुबह अपने दोस्त की बीवी की गाण्ड मारने का इरादा है क्या?

पंकज तब अपने हाथों से मुझे उल्टी लिटाते हुए बोला- नहीं, अभी मैं तुमको कुतिया बना कर पीछे से चोदूँगा और तुम एक कुतिया की तरह अपनी गान्ड हिला-हिला कर मेरा लंड अपनी चूत में पीछे से पिलवाओगी।

मैं तब बिस्तर पर अपने चार हाथ और पैरों के सहारे कुतिया की तरह हो गई और पंकज झट से उठ कर मेरे पीछे बैठ गया और पीछे से मेरे चूतड़ों को चाटने लगा और थोड़ी देर के बाद मेरी चूत भी चाटना और चूसना शुरू कर दिया।

तब पंकज ने मुझसे बोला- क्यों मेरी चुदक्कड़ विभा रानी, तुम्हें अपनी गान्ड मरवाने की बहुत जल्दी पड़ी हुई है। अभी तो मैं तेरी चूत की चोद-चोद करके उसको चौड़ी करूँगा और फिर नाश्ता करने के बाद तेरी गान्ड में अपना लंड घुसेड़ कर तेरी गान्ड का छेद चौड़ा करूँगा।

पंकज की बातों को सुन कर मैं पंकज से बोली- मेरी चूत और गान्ड की बातों को छोड़, तुम अपनी बीवी की चूत और गान्ड की चिंता करो पंकज… मेरे महा चोदू पति ने अब तक तुम्हारी बीवी की चूत और गान्ड चोद-चोद कर उसके दोनों छेद चौड़े कर दिए होंगे। तुम्हें शायद नहीं मालूम कि नरेन को औरतों की गान्ड मारने का बहुत शौक है और अब तक वो अपने लंड कम से दो-तीन बार ज़न्नत की गान्ड में डाल चुका होगा।


पंकज मेरी बातों को सुन कर बोला- कोई बात नहीं, नरेन अगर ज़न्नत की चूत और गाण्ड की छेद चौड़े कर रहा है तो मैं भी तुम्हारी चूत और गाण्ड की छेद बड़े कर दूँगा।

फिर थोड़ी देर के बाद पंकज ने मेरे पीछे से मेरे ऊपर चढ़ गया और अपना लंड मेरी चूत से सटा कर एक हल्का सा धक्का मारा और उसका सुपारा मेरी चूत में समा गया।

मैंने भी अपने बिस्तर की चादर को पकड़ कर अपनी कमर को पीछे की तरफ धकेला और पंकज का पूरा लंड मेरी चूत में समा गया।

अब पंकज ने मेरी कमर को पकड़ कर अपना कमर चला करके मुझे चोदना शुरू कर दिया। इस आसन में पंकज का लौड़ा मेरी चूत की बहुत गहराई तक पहुँच रहा था और मुझे भी मज़ा मिल रहा था।

पंकज ने तब अपने दोनों हाथों को नीचे से बढ़ा कर मेरे दोनों रसीले पके आमों को, जो हवा में झूल रहे थे, पकड़ लिया और मसलने लगा।

थोड़ी देर तक मेरी चूचियों से खेलने के बाद पंकज मेरी चूत की घुंडी से खेलने लगा और इसी तरह से वो मुझे चोदता रहा। थोड़ी देर के बाद पंकज ने चूत में अपना लंड का पानी छोड़ दिया और मेरी चूत को भर दिया।

मैं भी पंकज के साथ-साथ झड़ गई और बिस्तर पर औंधे लेट कर सुस्ताने लगी। पंकज भी मेरी पीठ पर पड़ा-पड़ा सुसताने लगा।

थोड़ी देर सुसताने के बाद पंकज मेरे ऊपर से हट गया और मैं भी तब पलंग पर उठकर अपनी चूत को पहले चादर से पोंछा और फिर बाथरूम चली गई।

जब मैं बाथरूम से नहा-धो कर निकली तो देखा कि पंकज अपने लंड को पकड़ कर सहला रहा है और उसका लंड फिर से खड़ा हो गया है।

मैंने पंकज से पूछी- क्या बात है? तुम्हरा हथियार फिर से खड़ा हो गया है? अभी उसको अपने हाथ से ही ठंडा करो और मैं अभी चाय-नाश्ता बनाने जा रही हूँ।

पंकज मेरी तरह देखते हुए बोला- अरे रानी, तुम चीज़ ही ऐसी हो कि तुम्हारी याद आते ही यह पिस्टन तैयार हो जाता है तुम्हारे सिलेण्डर में जाने के लिये !

तुम्हारी चूत बिल्कुल मक्खन मलाई जैसी है, जी करता है उसको मैं हमेशा चूमूँ, चाटूं और चोदूँ।

ठीक है.. अभी तुम चाय-नाश्ता बनाओ और मैं भी बाथरूम जा रहा हूँ। लेकिन चाय-नाश्ते के बाद मैं तुम्हारी गाण्ड मारूँगा।

लोग कहते हैं किसी औरत की चुदाई तब तक पूरी नहीं होती, जब तक उसकी गाण्ड में लंड ना पेला जाए। इसलिए मैं अभी नाश्ता करने के बाद तुम्हारी गण्डिया में अपना लाण्डिया पेलूँगा।

इतना कह कर पंकज बाथरूम चला गया और मैं नाश्ता बनाने रसोई में चली आई। रसोई में सबसे पहले नाश्ता बनाया और चाय बनाई।

जब तक मैं चाय-नाश्ता बना रही थी कि पंकज बाथरूम से नहा-धो कर बिल्कुल नंगा ही निकल आया और मुझसे कहने लगा- विभा, चलो अब तुम भी नंगी हो जाओ..! हम लोग नंगे ही बिस्तर पर बैठ कर चाय-नाश्ता करेंगे।

पंकज की बात सुन कर मैंने भी अपने सारे कपड़े उतार दिए और नंगी ही रसोई में जाकर चाय-नाश्ता लेकर के बिस्तर पर बैठ गई।

पंकज मेरे साथ-साथ मेरे बगल में बैठ गया और उसका मेरे बगल में बैठ कर मेरी चूचियों से खेलना चालू हो गया।

मैंने उसके हाथों को हटाते हुए उसको चाय-नाश्ता दिया और जल्दी से चाय-नाश्ता खत्म करने के लिए बोला।

पंकज ने मुझसे पूछा- क्यों जल्दी क्यों? क्या तुम्हें अपनी गाण्ड में मेरा लंड पिलवाने की बहुत जल्दी है क्या?

मैंने उसको कहा- नहीं, मुझे जल्दी है क्योंकि अभी एक घंटे में कामवाली आ जाएगी। एक घंटे में चाय-नाश्ता खत्म करना है। हम लोगों को फिर से कपड़े पहनने हैं… समझे मेरे चोदू राजा?

पंकज मेरी बातों को सुन कर चुपचाप नाश्ता करने लगा।

फिर हम लोगों ने चाय पी और फिर सारे बर्तन रसोई में रख कर वापस पंकज के पास बेडरूम में गई।

पंकज मुझसे बोला- विभा, मैं तो सोच रहा था कि मैं अभी तुम्हारी गाण्ड मारूँगा, लेकिन अभी तुम्हारी कामवाली बाई आने वाली है। चलो पहले हम लोग कपड़े पहन लेते हैं और अगर वक्त मिला हुआ तो कुछ करते हैं।

मैंने पंकज से पूछा- कुछ का मतलब? अभी कल रात से हम लोग चुदाई कर रहे हैं.. अब और क्या बचा है करने के लिए?

पंकज तब मेरी चूचियों को पकड़ कर धीरे-धीरे दबाते हुए बोला- अरे मेरी जान, अभी तुम्हारी चूत से और गाण्ड से मेरे लंड की दोस्ती बढ़ानी है। तभी तो बाद में मतलब और किसी दिन जब मौका मिलेगा। तुम्हें और रगड़ कर चोदना है। अच्छा चलो अपने कपड़े पहन लो और फिर बिस्तर पर अपनी साड़ी उठा कर लेट जाओ, मुझे तुम्हारी चूत का रस पीना है।

मैं पंकज की बात सुन जल्दी से अपने साड़ी, पेटीकोट, ब्रा और ब्लाउज पहन लिया और फिर वापस बिस्तर पर अपने कपड़े उठा कर लेट गई।

पंकज भी अब तक अपने कपड़े पहन चुका था।

वो मेरे पास आया और मेरी चूत को चूमने लगा। थोड़ी चूत को चूमने के बाद पंकज अपनी जीभ मेरी चूत पर फेरने लगा और फिर जीभ को मेरी चूत में डाल दिया।

पंकज अब जीभ से मेरी चूत बुरी तरह से चाटने और चूसने लगा। मेरी चूत भी तेज़ी से पानी छोड़ने लगी और पंकज भी तेज़ी से मेरी चाट-चाट कर चूत का पीने लगा।

चूत की चुसाई से मैं इतना गर्म हो गई कि मैं अपने आप अपनी दोनों टाँगों को घुटने से पकड़ लिया और अपनी कमर उचका कर अपनी चूत पंकज के मुँह से रगड़ने लगी। पंकज भी अपने दोनों हाथों से मेरी दोनों चूचियों को ब्लाउज के ऊपर से पकड़ कर रगड़ने लगा।

इतने में दरवाजे की घन्टी बजी और मैं और पंकज जल्दी से एक-दूसरे को छोड़ कर अपने कपड़े ठीक किए और मैं बाहर का दरवाजा खोलने चली गई। बाहर काम-वाली बाई आई हुई थी। काम-वाली अन्दर आई और अपने काम पर लग गई। थोड़ी देर में काम-वाली अपना काम खत्म करके चली गई और जाते-जाते पंकज पर अपनी गहरी नज़रों से देखती रही।

काम-वाली बाई के जाते ही पंकज ने मुझे पकड़ लिया और एक झटके के साथ मेरे सब कपड़े फिर से उतार दिए और मुझको अपने साथ बेडरूम में लाकर बिस्तर पर लिटा दिया। फिर पंकज भी जल्दी से अपने कपड़े उतार कर मेरे बगल में लेट गया।

लेटने के बाद पंकज ने एक हाथ से मेरी चूची और दूसरे हाथ से मेरी चूत को सहलाने लगा। थोड़ी देर के बाद पंकज ने मुझे उल्टा लिटा दिया और मेरे चूतड़ों पर अपना मुँह रगड़ने लगा।

फिर वो बिस्तर पर से उठ कर ड्रेसिंग टेबल से कोल्ड-क्रीम की बॉटल ले आया और क्रीम मेरी गाण्ड के छेद में मलने लगा।

अब तक मैं चुप थी मगर अब मैंने पूछ ही लिया- क्या कर रहे हो? क्या इरादा है? क्यों मेरी कोल्ड कीम खराब कर रहे हो। क्रीम मुँह में लगाई जाती है और तुम क्रीम मेरी गाण्ड में लगा रहे हो?

पंकज मेरी गाण्ड में क्रीम लगते हुए बोला- मेरी चुदक्कड़ रानी, अब मैं तुम्हारी गाण्ड में अपना लंड पेलूँगा और अभी उसी की तैयारी कर रहा हूँ। क्रीम लगाने से तुम्हारी गाण्ड नहीं छिलेगी।

तब अपने हाथों से अपने चूतड़ों को फैलाते हुए मैं पंकज से बोली- पंकज मेरे चोदू राजा, मुझे गाण्ड मरवाने की आदत है, क्योंकि नरेन अक्सर मेरी गाण्ड में अपना लंड पेलता है और चोदता है, इसलिए तुम्हारे लंड घुसने से मेरी गाण्ड अब नहीं फटेगी। लो अब मैंने अपनी गाण्ड खोल दी है और अब तुम अपना लंड डालो, और मेरी गाण्ड मारो।

मेरी बातों को सुन कर पंकज हंस पड़ा और बोला- विभा, मैं तो तुम्हें एक चुदक्कड़ औरत समझ रहा था लेकिन तू तो गाण्डू भी हो। चलो अब मैं तुम्हारी गाण्ड मारता हूँ।

इतना कहकर पंकज ने अपना लंड मेरी गाण्ड में एक झटके से ठूँस दिया और मेरी गाण्ड चोदने लगा।

मैं भी अपनी कमर को झटके के साथ आगे-पीछे करके पंकज का लंड अपने गाण्ड में मज़े से पिलवाने लगी।

थोड़ी देर में पंकज मेरी गाण्ड के अन्दर झड़ गया और अपना लंड मेरी गाण्ड से निकाल कर बाथरूम में चला गया। मैं भी बिस्तर के चादर से अपनी गाण्ड को पौंछ कर रसोई में चली गई।

कहानी जारी रहेगी।


ज़न्नत की ज़न्नत-3 Aurat, Biwi, Boss, Chachi, Collage, Mast, Office, Pati, School, Suhagraat - Hindi Sex Stories